अगर किसी को उच्च अथवा निम्न रक्तचाप की बीमारी है तो छुटकारा पाने के लिए जरूर पढ़े ये खबर

0


उच्च रक्तचाप के विपरीत जब शारीरिक निर्बलता , रक्ताल्पता के कारण रक्तचाप 90  मि. मी. और 100 मि. मी. से कम हो जाता है तो उस विकृति को निम्न रक्तचाप अर्थात लो ब्लड प्रेशर कहा जाता है ! शरीर में अर्श ( बवासीर ) , किसी कारण से लगने , स्त्रियों में बच्चे को जन्म देने के कारण या ऋतुस्त्राव की विकृति से रक्त की अत्यधिक कमी हो जाये तो निम्न रक्तचाप हो जाता है !

लक्षण : निम्न रक्तचाप के रोगी प्रारम्भ में शारीरक निर्बलता का अनुभव करते है ! फिर उनके ह्रदय में घबराहट होने लगती है ! अधिक सीढ़ियों पर चढ़ना मुश्किल हो जाता है ! सिरदर्द , चक्कर आना , सिर में भारीपन , मिचली , कानो में धूं धूं की ध्वनि होने के साथ आलस्य के लक्षण प्रकट होते है , निम्न रक्तचाप में नपुंसकता के भी लक्षण दिखाई देते है ! थोड़े से परिश्रम से रोगी बुरी तरह थक जाता है ! मस्तिष्क में रक्त की कमी से स्मरणशक्ति खतम हो जाती है ! लो बी पी को हाइपोटेंशन भी कहा जाता है और यह तब होता है जब रक्तचाप सामान्य से कम होता है ! जब रक्तचाप शरीर के अन्य अंगो को रक्त नहीं दे पाता है , तो शरीर के अंग ठीक से काम नहीं कर पाते है और अस्थाई या स्थाई रूप से क्षतिग्रस्त हो सकते है !

लो बीपी के लक्षण उसके होने के कारण पर निर्भर करते है ! उदहारण के लिए , यदि रक्त मस्तिष्क में अप्रयाप्त रहता है तो मस्तिष्क की कोशिकाओं को पर्याप्त ऑक्सीजन और पोषक तत्व प्राप्त नहीं होते है जिससे चक्कर आना या बेहोशी हो सकती है ! लो बीपी का सबसे आम लक्षण है चक्कर आना या बेहोशी !

  • इससे छुटकारा पाने के लिए करे ये घरेलू उपचार : गाजर खाने या गाजर का रस पीने से निम्न रक्तचाप में लाभ होता है !
  • प्रतिदिन भोजन से पहले 300 ग्राम टमाटर काटकर , सेंघा नमक डालकर खाये या 200 ग्राम सुबह शाम टमाटर का रस पिए ! निम्न रक्तचाप तेजी से सामान्य हो जायेगा !
  • 50 ग्राम खजूर को दूध में उबालकर प्रतिदिन पीने से शरीर निर्बलता नष्ट होने पर निम्न रक्तचाप की विकृति नष्ट होती है !
  • सलाद के रूप में  200 ग्राम खीरे पर निम्बू का रस डालकर , सेंघा नमक मिलाकर सुबह – शाम अवश्य सेवन करें ! इससे शरीर को आयरन मिलता है !
  • 2 छुआरे रात को 200 ग्राम दूध में उबालकर खाने और दूध पीने से निम्न रक्तचाप सामान्य हो जाता है !
  • रात को जल में डाली हुई बादाम की तीन गिरी को सुबह पीसकर 50 ग्राम मक्खन और 10 ग्राम मिश्री मिलाकर खाने और 250 ग्राम दूध पीने से निम्न रक्तचाप में बहुत लाभ होता है !
  • आंवला के 20 ग्राम रस में 10 ग्राम शहद मिलाकर प्रतिदिन सेवन करने से निम्न रक्तचाप सामान्य हो जाता है !
  • आंवला या सेब का मुरब्बा खाने से कुछ दिन में लाभ मिलने लगता है !
  • 50 ग्राम पोदीने को पीसकर उसमे स्वादानुसार सेंघा नमक , हरा धनिया व काली मिर्च डालकर चटनी के रुप में सेवन करने से निम्न रक्तचाप में बहुत लाभ मिलता है !
  • अदरख 5 से 10 ग्राम मात्रा में बारीक काट कर या पीसकर सेंघा नमक मिलाकर खाने से निम्न रक्तचाप में बहुत लाभ होता है !
  • पालक , मेथी , और बथुआ अदि में लोह तत्व की मात्रा अधिक होती है ! निम्न रक्तचाप के रोगी को प्रतिदिन इन सब्जियों का सेवन जरूर करना चाहिए !

विज्ञापन