अगर घड़ी को गलत जगह पर रखा गया है,तो आनेवाला समय भी बदल जाएगा।कारन जानकर चौक जाओगे।

130

अगर घड़ी को गलत जगह पर रखा गया है,तो आनेवाला समय भी बदल जाएगा।कारन जानकर चौक जाओगे। लाइव हिंदी खबर :-घड़ी का काम समय दिखाना है, लेकिन अगर यह घड़ी गलत जगह पर लगाई गई है, तो आपका समय खराब हो सकता है। हम सभी के घर में घड़ियां होती हैं। लेकिन लोग अक्सर घर की किसी भी दीवार पर घड़ी लगाते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि किसी भी घड़ी को वास्तुशास्त्र के अनुसार फिट किया जाना चाहिए? आखिर में घड़ी लगाने का उचित तरीका क्या है? हमारे लेख के माध्यम से हमें बताएं।

घड़ी को कभी भी एक समतल दिशा में स्थापित नहीं करना चाहिए। क्योंकि शास्त्रों के अनुसार दक्षिण दिशा समय का वास है। वास्तुशास्त्र के अनुसार घड़ी को आड़ी दिशा में लगाना अशुभ होता है। क्योंकि दक्षिण दिशा में रिश्तेदारों की तस्वीर चिपका दी जाती है। इसीलिए अमृत लोगों की तस्वीरों को हमेशा दक्षिण दिशा में लगाना चाहिए, न कि घड़ी से। वास्तुशास्त्र के अनुसार घड़ी लगाने की उचित जगह उत्तर, पूर्व और पश्चिम दिशा है। कहा जाता है कि इन तीनों दिशाओं में सकारात्मक ऊर्जा होती है।

वास्तुशास्त्र के अनुसार घड़ी को किसी भी घर के दरवाजे पर नहीं लगाना चाहिए, यह अशुभ माना जाता है। दरवाजे पर घड़ी लगाने का मतलब तनाव को आमंत्रित करना है। इससे घर में तनाव का माहौल बनता है। ऐसा इसलिए है क्योंकि दरवाजे से होकर नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है।

यदि आप अपने घर के ड्राइंग रूम में पेंडुलम वाली घड़ी लगाते हैं, तो यह वास्तुशास्त्र के अनुसार शुभ होता है। पेंडुलम घड़ी हर घंटे एक टन शोर करती है और आपको समय का एहसास कराती है। अगर आप ऐसी घड़ी पहनते हैं तो घर में बरकत बनी रहती है।

घर में बंद घड़ी कभी न रखें। घड़ी की मरम्मत करवाएं या घर से बाहर फेंक दें। घर में किसी भी बंद घड़ी को रखना अशुभ होता है चाहे वह दीवार पर लगी हो या हाथ की घड़ी या टेबल क्लॉक। वास्तु कहता है कि रुका हुआ समय आपके जीवन में भी बाधा डालता है और आपके हर काम में बाधा डालता है। इसलिए अगर आपके घर में टूटी हुई घड़ी है, तो उसे तुरंत ठीक करवाएं या उसे खुरचें।