गवर्नमेंट जॉब: आपकी किस्मत में सरकारी नौकरी है या नहीं, खुद ऐसे ये रेखाएं देखकर करें पता…

158

लाइव हिंदी खबर :- वो कहते हैं हाथ में जितना लिखा है उतना ही मिलता है। जब भी बेवजह हमारे साथ कुछ बुरा होता है, घर में आर्थिक तंगी रहती है, परिवार के सदस्यों के बीच रिश्ते ठीक नहीं रहते हैं तो हम यही कहते हैं कि जरुर किसी की बुरी नजर लगी है। ऐसे में इंसान की कुंडली या हस्तरेखा में उसके राज छुपे होते है।

आपकी किस्मत में सरकारी नौकरी है या नहीं, खुद ऐसे ये रेखाएं देखकर करें पता…

ज्योतिष शास्त्र में और हस्तरेखा को लोग बहुत महत्व देते हैं उनके अंदर पैसा, शौहरत और सरकारी नौकरी प्राप्त होगी या नहीं यह बात जानने की जिज्ञासा रहती है। क्या आपको पता है? हथेली पर बनने वाली सरकारी नौकरी और धनवान होने के संकेतों की बातें आपकी हथेली पर ही लिखी हुई हैं।

हमसभी की हथेली पर मुख्य रूप से 3 जगहों पर व्यक्ति के भाग्य, धन और नौकरी के बारे में जानकारी मिलती है। इन्हीं रेखाओं को देखकर ज्योतिष इस बारे में हमें बताते हैं कि क्या हमारे भाग्य में नौकरी है कि नहीं। ऐसे में हम अपनी हस्तरेखा दिखाने के लिए उन्हें पैसे देकर ये जानकारी लेते हैं। लेकिन आज हम आपको उन रेखाओं को पढ़ने की कला आपको बताएंगे।

Sarkari Naukri 2020: इन सरकारी विभागों में बंपर नौकरियां, आवेदन के लिए यहां  जानें डिटेल्स - sarkari naukri 2020 live updates 19 02 2020 dsssb  recruitment railway job air india vacancies government ...

बता दें कि, शास्त्रों के अनुसार पहला स्थान गुरु का होता है और यह स्थान व्यक्ति के बुद्धि और विवेक का माना जाता है। इसके बाद दूसरा स्थान न्याय और कर्तव्य के देवता शनि को दर्शाता है। ये रेखा हमें उन्हीं कर्मों के फल देती है जो अच्छे होते हैं। हथेली पर तीसरा स्थान सूर्य देवता का रहता है। अब आपको बता दें कि जिस किसी के हाथ में भाग्य रेखा से निकलती हुई कोई रेखा शनि और गुरु पर्वत जा कर मिलती हो उस व्यक्ति के जीवन में सरकारी नौकरी के योग होते है।

ये रेखा कटी पिटी नहीं होनी चाहिए ऐसा होने पर नौकरी पाने में अर्चन आते हैं। बता दें कि हस्तरेखा पर विश्वास करना गलत नहीं है लेकिन किस्मत पर एकदम निर्भर होना भी ठीक बात नहीं है हमें हमेशा ही अपना लक्ष्य पाने के लिए मेहनत करनी चाहिए और ये बात कभी नहीं भूलनी चाहिए कि भगवान भी उसी की मदद करते हैं जो खुद की मदद करता है। ऐसे में हमें अपना कर्म करते जाना चाहिए और फल समय पर छोड़ देना चाहिए।