इन कारणों से होता हैं गर्भपात, ऐसे करें खुद का बचाव

163

हेल्थ कार्नर :-   इस लेख में महिलाओं के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण जानकारी देने जा रहें हैं. हर महिला के लिए मातृत्व सुख सबसे बड़ा सुख होता हैं. इस सुख के लिए महिलाओं बहुत बड़ी कठिनायों का सामना करना पड़ता हैं. कई महिलाओं के लिए प्रेग्‍नेंसी वाकई में बहुत चैलेंजिंग होती है. कभी-कभी तो गर्भपात से भी गुजरना पड़ता हैं. ये उस महिला के लिए बहुत मुश्किल भरा समय होता हैं. गर्भपात के कई कारण होते हैं. आज हम आपको इस लेख में गर्भपात के लक्षण और बचाव के उपायों बारे में विस्तार से बताने जा रहें हैं.

इन कारणों से होता हैं गर्भपात, ऐसे करें खुद का बचाव

गर्भपात के लक्षण

40 की उम्र के बाद महिलाओं में गर्भपात का खतरा दोगुना हो जाता हैं. जब गर्भ में भ्रूण ठीक तरह से विकसित नहीं हो पाता तो शरीर उसे खुद ब खुद बाहर कर देता है. गर्भपात के शुरूआती लक्षण लगातार पेट में दर्द रहना , कमर के निचले हिस्से में दर्द महसूस होना प्राइवेट पार्ट से ब्‍लीडिंग होना जैसे इसके शुरुआती लक्षण हैं. अगर ऐसे लक्षण दिखाई दें तो बिना देर किये डॉक्टर की सलाह लें.

ऐसे करें अपनी देखभाल

गर्भावस्था में तनावमुक्त रहें. क्योकि जैसा सोचेंगी जैसा रहेंगी आपका बच्चा भी वैसा ही रहेगा. इस बारे में डॉक्टर को खुल कर बताये कोई बात छुपाये नहीं. इसके अलावा अपने खान-पान पर भी ध्यान रखें.फास्‍ट फूड को बिलकुल बंद कर दें. सब्जियां,फल,सूप और जूस आदि का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें. इनके अलावा सबसे खास बात कुछ भी परेशानी महसूस होने पर तुरंत डॉक्‍टर के पास जाएँ.