इस मंदिर में भगवान के साथ रहते हैं खूंखार जानवर, दर्शनार्थी को ऐसे मिलता है आशीर्वाद!

178

लाइव हिंदी खबर :- हर मंदिर का अपना रिवाज होता है अपने देवी और देवता होते हैं। सब अपनी-अपनी मान्यता और विशेषता के लिए जाने जाते हैं। आज हम ऐसे ही एक और मंदिर के बारे में बताने जा रहे हैं लेकिन वो मंदिर और भी अनोखा है जहां पर बड़े से बड़ा जानवर भी एक कुत्ते की तरह हो जाता है। आपको यकीन नहीं होगा तो आइए खुद ही देख लीजिए इस मंदिर को।

इस मंदिर में भगवान के साथ रहते हैं खूंखार जानवर, दर्शनार्थी को ऐसे मिलता है आशीर्वाद!

इस मंदिर में वो होता है जो किसी मंदिर में नहीं होता। इस मंदिर में दुनिया के सबसे खूंखार जानवर को पालतू बनाकर रखा जाता है और इनकी संख्या एक या दो नहीं बल्कि इस मंदिर में कई खूंखार जानवर पाले गए हैं। यहां बौद्ध भिक्षु 143 बंगाल बाघों की देखभाल करते हैं बता दें कि, यह मंदिर दक्षिणपूर्व एशिया में सबसे विवादास्पद मंदिर में से एक हैं।

जिस मंदिर के बारे हम आपको बताने जा रहे हैं वो मंदिर थाईलैंड में स्थित है, यह मंदिर भगवान बुद्ध को समर्पित है। आपको जानकर हैरानी होगी कि, यहां टाइगर, शेर और चीते जैसे जानवर पाले गए हैं। इस मंदिर का नाम wat pa luang ta bua रखा गया है। इस मंदिर में इन जानवरों से किसी को कोई खतरा नहीं होता बल्कि सभी एक साथ रहते हैं। जैसे कुत्ते इंसानों के दोस्त की तरह होते हैं ये खूंखार जानवर भी उनके साथ ऐसे ही रहते हैं।

ये है अनोखा मंदिर जहां भगवान के साथ रहते हैं खूंखार जानवर | NewsTrack Hindi  1

म्यांमार और थाइलैंड के बीच बनाए गए इस मंदिर का चमत्कार देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। लेकिन आज जिस वजह से यह जाना जाता है साल 1994 तक यह मंदिर बौद्ध धर्म का मंदिर हुआ करता था लेकिन यहां टाइगर की तस्करी में हो रही बढ़ोतरी की वजह से इस मंदिर को जिव-जंतुओं के संरक्षण के लिए खोल दिया गया।

फिर धीरे-धीरे यह मंदिर बाघों का घर बन गया। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, इसकी शुरुआत तब हुई जब मंदिर के पुजारी को एक ग्रामीण ने बाघ का छोटा बच्चा लाकर दिया इस बाघ के बच्चे की मां का शिकार कुछ लोगों ने कर दिया था बस तब से यह मंदिर इन जानवरों का संरक्षण करने में लगा है।