कैथा क्या हैं और इसके क्या फायदे होते, जानिए अभी

202

हेल्थ कार्नर :-   इस आयुर्वेदिक औषधी को अलग-अलग स्थानों में कई नाम से जाना जाता है। इसे लकड़ी सेब, हाथी सेब आदि नाम से जाना जाता है। आयुर्वेद में कैथा या कबीट को पेट रोगों का विशेषज्ञ माना गया है कैथा खाने के फायदे इसलिए होते हैं क्योंकि इसे जड़ी-बूटीयों की श्रेणी में रखा जाता है। यह एक ऐसा फल है जो विभिन्न प्रकार की स्वास्थ्य समस्याओं को दूर करने के लिए औषधी के रूप में उपयोग किया जा सकता है।आज हम आपको इसके फायदे बताएंगे।

कैथा क्या हैं और इसके क्या फायदे होते, जानिए अभी

पके हुए कैथा के रस लगभग 12 ग्राम लेकर उसमें थोड़ा शहद मिलाकर सेवन करने से दमा के रोगी को काफी फायदा मिलता है।

इसके ताने और शाखाओं में फेरोनो गम नाम का गोंड जैसा पदार्थ होता है। इसमें टैनिन होने की वजह से यह सूजन को कम करने के लिए लिया जाता है इसके रोचक गुण भी कब्ज से बचने में मदद करते हैं।

कैथा महिलाओं में प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का स्तर बढ़ाता है, जो बांझपन की समस्याओं को रोकने में मददगार होता है। इस पेड़ की छाल से बने पारंपरिक रूप काढ़े का उपयोग मेनोरैगिया के लिए उपाय के रूप में किया जाता है।

बारिश में अक्सर लोगों को विषैले कीड़े काट लेते है।लेकिन यदि कैथा का गूदा काटे जगह पर लगाया जाय तो लगाने से लाभ होता है।

किडनी की बीमारी से पीड़ित लोगों को कैथा का सेवन करने की सलाह दी जाती है। इसमें विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने वाले गुण होते हैं जिससे किडनी को बहुत से रोगों से बचाया जा सकता है।

बीटा कैरोटीन एक वर्णक जो कि कैथा के पौधों में स्वाभाविक रूप से पाया जाता है। नियमित रूप से इसका सेवन करने पर यह शरीर मे विटामिन ए में परिवर्तित कर दिया जाता है। यह यौगिक आपकी आंखों को स्वस्थ्य रखने में मदद करता है।