क्या आप जानते हैं कैसे पहुंचा शिव के सिर पर अर्द्धचंद्र? जानें ये पौराणिक कथा

जानें कैसे पहुंचा शिव के सिर पर अर्द्धचंद्र, जुड़ी है ये पौराणिक कथा लाइव हिंदी खबर :-पौराणिक कथाओं और तस्वीरों में भगवान शिव हाथों में डमरू, त्रिशूल, गले में सांप, मांथे पर तीसरी आंख, चेहरे पर गंभीर, सिर पर गंगा आदि चीजों से सुशोभित होते है। भगवान शिव धर्म में सबसे महत्वपूर्ण देवताओं में से एक है। भगावन शिव को देवों के देव कहा जाता है। भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ,गंगाधार के नाम से भी जाना जाता है। तंत्र साधना में इन्हे भैरव के नाम से भी जाना जाता है। हिन्दू धर्म के प्रमुख देवताओं में से हैं।

वेद में इनका नाम रुद्र है। यह व्यक्ति की चेतना के अन्तर्यामी हैं। इनकी अर्धांगिनी (शक्ति) का नाम पार्वती है। इनके पुत्र कार्तिकेय और गणेश हैं, तथा पुत्री अशोक सुंदरी हैं। शिव अधिक्तर चित्रों में योगी के रूप में देखे जाते हैं और उनकी पूजा शिवलिंग तथा मूर्ति दोनों रूपों में की जाती है। शिव के गले में नाग देवता विराजित हैं और हाथों में डमरू और त्रिशूल लिए हुए हैं। कैलाश में उनका वास है। यह शैव मत के आधार है। इस मत में शिव के साथ शक्ति सर्व रूप में पूजित है।

लेकिन क्या आपको मालूम है कि भगवान शिव के चर पर अर्ध चंद्र विराजमान है। इसके पीछे एक पौराणिक कथा प्रचलित है। आइए जानते हैं क्या है कथा –

पौराणिक कथा मुताबिक चंद्र का विवाह दक्ष प्रजापति की 27 नक्षत्र कन्याओं के साथ संपन्न हुआ। चंद्र और रोहिणी बहुत खूबसूरत थीं और चंद्र का रोहिणी पर अधिक स्नेह देख शेष कन्याओं ने अपने पिता दक्ष से अपना दु:ख प्रकट किया। दक्ष स्वभाव से ही क्रोधी प्रवृत्ति के थे और उन्होंने क्रोध में आकर चंद्र को श्राप दिया कि तुम क्षय रोग से ग्रस्त हो जाओगे। शनै:-शनै: चंद्र क्षय रोग से ग्रसित होने लगे और उनकी कलाएं क्षीण होना प्रारंभ हो गईं। नारदजी ने उन्हें मृत्युंजय भगवान आशुतोष की आराधना करने को कहा, तत्पश्चात उन्होंंने भगवान आशुतोष की आराधना की।

चंद्र अंतिम सांसें गिन रहे थे (चंद्र की अंतिम एकधारी) कि भगवान शंकर ने प्रदोषकाल में चंद्र को पुनर्जीवन का वरदान देकर उसे अपने मस्तक पर धारण कर लिया अर्थात चंद्र मृत्युतुल्य होते हुए भी मृत्यु को प्राप्त नहीं हुए। पुन: धीरे-धीरे चंद्र स्वस्थ होने लगे और पूर्णमासी पर पूर्ण चंद्र के रूप में प्रकट हुए।

चंद्र क्षय रोग से पीड़ित होकर मृत्युतुल्य कष्टों को भोग रहे थे। भगवान शिव ने उस दोष का निवारण कर उन्हें पुन:जीवन प्रदान किया अत: हमें उस शिव की आराधना करनी चाहिए जिन्होंने मृत्यु को पहुंचे हुए चंद्र को मस्तक पर धारण किया था।

शिव अपने इस स्वरूप द्वारा पूर्ण सृष्टि का भरण-पोषण करते हैं। इसी स्वरूप द्वारा परमात्मा ने अपने ओज व उष्णता की शक्ति से सभी ग्रहों को एकत्रित कर रखा है। परमात्मा का यह स्वरूप अत्यंत ही कल्याणकारी माना जाता है क्योंकि पूर्ण सृष्टि का आधार इसी स्वरूप पर टिका हुआ।

ऐसे आया हाथ में त्रिशुल

इसी प्रकार से भगवान शिव के शरीर पर हर धारण चीज के पीछे कोई न कोई पौराणिक कहानी छुपी है। उनेक हाथों प विराजित त्रिशूल की भी अपनी पौराणिक कहानी है। माना जाता है क‌ि सृष्ट‌ि के आरंभ में ब्रह्मनाद से जब श‌िव प्रकट हुए तो साथ ही रज, तम, सत यह तीनों गुण भी प्रकट हुए। यही तीनों गुण श‌िव जी के तीन शूल यानी त्र‌िशूल बने। इनके बीच सांमजस्य बनाए बगैर सृष्ट‌ि का संचालन कठ‌िन था। इसल‌िए श‌िव ने त्र‌िशूल रूप में इन तीनों गुणों को अपने हाथों में धारण क‌िया।

सोमवार के दिन होती है शिव की पूजा

सोमवार का दिन भगवान शिव का माना जाता है। इस दिन लोग भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए मंदिर में जाकर भगवान का दर्शन करते हैं। भगवान शिव वरदान और न्याय के देवता माने जाते हैं। कहा जाता है कि अगर सोमवार को भगवान शिव व माता पार्वती की शुद्द मन से आराधना किया जाए तो उसकी इच्छा पूर्ति के अवश्य होती है।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top