क्या आप बदहजमी की बीमारी से रहते है पीड़ित ? तो करे ये घरेलु उपचार

0


भोजन का सही तरीके से पाचन न हो पाने की बीमारी को बदहजमी कहा जाता है ! चिकित्सा विशेष के अनुसार पेट में कब्ज की वजह से बदहजमी हो जाती है ! जो लोग जल्दी, जल्दी , अधिक मात्रा में भोजन करते है और भोजन की पाचन क्रिया से पहले कुछ न कुछ खाते रहते है ! वह लोग बदहजमी की बीमारी से ज्यादा पीड़ित रहते  है ! बदहजमी की वजह से कोई भी काम सही ढंग से नहीं हो पाता है क्यूंकि हमारा सारा ध्यान उसी तरफ रहता है !

लक्षण : पेट में गुड़गुड़ाहट , पेट अफरना ( वायु विकार ), सिर में दर्द , शरीर में भारीपन , डकारों का आना , कब्ज , पीट में जकड़न , भुखार , उलटी , अरुचि और पेटदर्द के लक्षण दिखाई देते है ! और कभी कभी दस्त भी लग जाते है !

बदहजमी रोकने के उपाए :

  • दो टमाटर काटकर उसमे सेंधा नमक और काली मिर्च का चूर्ण डालकर सुबह-शाम खाने से बदहजमी खतम हो जाती है !
  • हींग और जीरा 10-10 ग्राम मात्रा में भूनकर , सोंठ और सेंधा नमक १०-१० ग्राम मिलाकर सबको पीसकर चूर्ण बना ले ! 3 ग्राम मात्रा में भोजन के बाद इस चूर्ण को पानी के साथ सेवन करें !
  • तुलसी के पत्तो का रस 10 ग्राम मात्रा में कुछ दिनों तक सेवन करें !
  • प्रतिदिन सुबह और शाम निम्बू का रस 10 ग्राम , 200 ग्राम जल में डालकर , मिश्री या चीनी स्वाद के अनुसार मिलकर पीने से बदहजमी खतम हो जाती है !
  • गाजर का रस 200 ग्राम मात्रा में प्रतिदिन थोड़ा सा सेंधा नमक व सोंठ का चूर्ण या काली मिर्च चूर्ण दो ग्राम डालकर पिए !

विज्ञापन
Footer code:

विज्ञापन