Breaking News

चीन-अमेरिका संबंधों को सही रास्ते पर वापस लाएं : चीनी विदेशमंत्री

बीजिंग, 22 फरवरी (आईएएनएस)। चीनी विदेश मंत्री वांग यी ने 22 फरवरी को संवाद, सहयोग और मतभेदों का प्रबंधन— चीन-अमेरिका संबंधों को सही रास्ते पर वापस लाएं शीर्षक लानथिंग मंच के उद्घाटन समारोह में भाषण दिया और चीन-अमेरिकी संबंधों को पटरी पर लाने के तरीके के बारे में व्याख्या की।

वांग यी ने कहा कि नए साल की पूर्व संध्या पर चीन और अमेरिका के नेताओं ने पहली बार फोन पर बातचीत की। उन्होंने इस बात पर सहमती जतायी कि चीन और अमेरिका को आपसी समझ बढ़ाते हुए गलतफहमी से बचना चाहिए, एक दूसरे का ईमानदार व्यवहार करते हुए संघर्ष व टकराव से बचना चाहिए, संचार के चैनल को अनब्लॉक करते हुए आदान-प्रदान व सहयोग को बढ़ावा देना चाहिए। वैश्विक महामारी, आर्थिक मंदी और जलवायु परिवर्तन जैसी अभूतपूर्व आम चुनौतियों के सामने चीन और अमेरिका को दो प्रमुख देशों के रूप में अपना काम करते हुए मानव जाति के सामान्य हितों के लिए सहयोग करना चाहिए, जो अंतर्राष्ट्रीय समुदाय की समान अपेक्षा है और एक प्रमुख देश की जिम्मेदारी भी है।

वांग यी का कहना है कि पिछले कुछ वर्षों में चीन-अमेरिकी संबंध सामान्य ट्रैक से भटक गए हैं और राजनयिक संबंधों की स्थापना के बाद से सबसे कठिन स्थिति में फंस गये हैं। मूल कारण यह है कि पूर्व अमेरिकी सरकार ने अपनी खुद की राजनीतिक जरूरतों के अनुसार चीन के रुझान और नीतियों की गंभीर गलतफहमी और विकृत व्याख्या की। इन मौकों पर उठाए गये विभिन्न दमनकारी कदमों ने दोनों देशों के संबंधों को बड़ा नुकसान पहुंचाया है। आज, चीन-अमेरिका संबंधों को अराजकता से छुटकारा पाकर सही ट्रैक पर वापस लौटना चाहिए। इसके लिए चीन के बारे में विभिन्न गलतफहमियों को तोड़कर सटीक रूप से चीन को समझना चाहिए।

वांग यी ने यह भी कहा कि नयी अमेरिकी सरकार विदेश नीति की समीक्षा और मूल्यांकन कर रही है। आशा है कि अमेरिकी नीति निमार्ता ऐतिहासिक रुझान का पालन करते हुए दुनिया की सामान्य प्रवृत्ति को स्पष्ट रूप से देखेंगे, सभी प्रकारों के पूर्वाग्रहों को छोड़कर चीन के प्रति नीतियों की तर्कसंगतता में वापसी को बढ़ावा देंगे, ताकि चीन-अमेरिका संबंधों का स्वस्थ और स्थिर विकास हो सके। 50 साल पहले, चीन और अमेरिका के नेताओं ने असाधारण राजनीतिक साहस के साथ संयुक्त रूप से आदान-प्रदान के द्वार खोले थे। आज हमें एक बार फिर दोनों देशों और दुनिया के प्रति जिम्मेदार रवैये अपनाते हुए बुद्धिमान विकल्प अपनाना चाहिए।

Advertisements

चीनी विदेशमंत्री ने उम्मीद जताई कि अमेरिका चीन के प्रमुख हितों, राष्ट्रीय गरिमा और विकास के अधिकारों का सम्मान करेगा, चीनी कम्युनिस्ट पार्टी और चीन की राजनीतिक व्यवस्था को बदनाम करना बंद करेगा और हांगकांग, शिनच्यांग व तिब्बत से जुड़े मामलों में चीन की संप्रभुता और सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने पर रोक लगाएगा। सही ढंग से पारस्परिक सम्मान के साथ ही चीन-अमेरिकी संबंधों का सुधार और विकास स्थिर और दीर्घकालिक हो सकेगा।

अपने भाषण में वांग यी ने यह भी कहा कि वर्तमान में चीन और अमेरिका को द्विपक्षीय संबंधों और प्रमुख अंतरराष्ट्रीय व क्षेत्रीय मुद्दों पर बातचीत करनी चाहिए, एक दूसरे के नीतिगत इरादों को सही ढंग से समझाना चाहिए, चीन-अमेरिका संबंधों के मुख्य संकटों को स्पष्ट करते हुए संवेदनशील मुद्दों का प्रबंध करने, जोखिम व बाधाओं को दूर करने के समाधान खोजने चाहिए। चीन का बातचीत करने का दरवाजा हमेशा खुला है। हम अमेरिका के साथ समस्याओं को हल करने के लिए संवाद करने को तैयार हैं।

चीनी विदेश मंत्री ने कहा कि वर्तमान स्थिति के तहत, दोनों पक्षों को सक्रिय आपसी संवाद के आधार पर सद्भावना का संचय करना चाहिए। चीन को उम्मीद है कि अमेरिका शीघ्र ही अपनी नीति को समायोजित करेगा, चीनी उत्पादों पर अनुचित टैरिफ लागू करना छोड़ देगा, चीनी उद्यमों और वैज्ञानिक अनुसंधान और शैक्षिक संस्थानों पर लगाए गए विभिन्न एकतरफा प्रतिबंधों को छोड़ देगा और चीन की वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति पर अनुचित दमनकारी कृत्य को छोड़ देगा, ताकि दोनों देशों के बीच सहयोग के लिए आवश्यक शर्तें प्रदान किया जा सके।

वांग यी ने उम्मीद जतायी कि अमेरिका चीनी शिक्षा, संस्कृति, समाचार, प्रवासी चीनी मामले समुदायों के अमेरिका में गतिविधियों पर सभी प्रकार के प्रतिबंध जल्द से जल्द हटा देगा, विभिन्न स्थानीय सरकारों और जगतों के प्रति चीन के साथ आवाजाही करने को लेकर बाधाओं को हटा देगा। दोनों देशों के बीच विश्वविद्यालयों, अनुसंधान संस्थाओं और छात्रों के बीच सामान्य मानविकी आदान-प्रदान परियोजनाओं का प्रोत्साहन और समर्थन करेगा।

वांग यी के मुताबिक, चीन अमेरिका के साथ एक ही दिशा की ओर आगे बढ़ना चाहता है, ताकि खुले रुख अपनाते हुए दोनों देशों के बीच आवाजाही के लिए बेहतर वातावरण तैयार हो सके।

( साभार- चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग )

— आईएएनएस

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *