जानिए पालक के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज के बारे में, आप अभी

141

हेल्थ कार्नर :-   पालक एक ऐसी सब्जी है जो हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही लाभकारी है। रेतीली जमीन को छोड़कर शेष प्रकार की जमीन पर पालक खेती के लिए अनुकूल रहती है। इसके हरे पत्तों की सब्जी, सोया की भाजी या अन्य पत्तों वाली भाजी के साथ मिलाकर पकाई जाती है। कच्चा पालक खाने में कड़वा और खारा लगता है, परंतु गुणकारी होता है। दही के साथ कच्चे पालक का रायता बहुत ही स्वादिष्ट और गुणकारी होता है। पालक मानव के लिए एक अमृत के समान लाभकारी सब्जी है तथा यह सब्जी ही अपने आप में एक सम्पूर्ण भोजन है, क्योंकि इसमें कैल्शियम, विटामिन-सी और लौह तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो शरीर में पोषक तत्वों की पूर्ति करते हैं। पालक से कई तरह की औषधियां भी बनायी जाती हैं।

जानिए पालक के गुण और उससे होने वाले आयुर्वेदिक इलाज के बारे में, आप अभी

पालक की भाजी वायुकारक है, इसलिए वर्षा के मौसम में इसका सेवन नहीं करना चाहिए। पालक के पत्तों को उबालकर पानी छान लें और पत्ते भी निचोड़ लें। इस गर्म-गर्म पानी से गरारे करने से गले का दर्द ठीक हो जाता है। पालक साग के पंचांग (पत्ती, जड़, फल, फूल और तना) का काढ़ा सुबह-शाम 20 से 40 मिलीलीटर की खुराक के रूप में लेने से सूजन के द्वारा आने वाले बुखार में लाभ पहुंचता है।