जानें क्या होगा सभी 12 राशियों का हाल,वृश्चिक राशि में देवगुरु बृहस्पति चलेंगे उल्टी चाल

195

देवगुरु बृहस्पति वृश्चिक राशि में प्रवेश कर चुके हैं। देवगुरु इस राशि में 11 अगस्त तक वक्री चाल चलेंगे और 5 नवंबर से पुनः धनु राशि में गोचर करेंगे। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुरु को देवगुरु कहा जाता है और गुरु शुभ ग्रह माना जाता हैं। पंडित रमाकांत मिश्रा बताते हैं की गुरु ग्रह जीवन में तरक्की और समृद्धि के कारक ग्रह माना जाता है। किसी भी जातक की कुंडली में गुरु ग्रह का शुभ होना बहुत ही अच्छा माना जाता है, व्यक्ति बुद्धिमान और दान-धर्म करने वाला व साधु प्रवृत्ति का होता है। वहीं गुरु का वृश्चिक राशि में वक्री चाल यानी उल्टी चाल सभी 12 राशियों पर असर डालेगा। आइए जानते हैं गुरु के इस परिवर्तन से अगले 4 महीने सभी राशियों पर कैसा प्रभाव रहेगा…

जानें क्या होगा सभी 12 राशियों का हाल,वृश्चिक राशि में देवगुरु बृहस्पति चलेंगे उल्टी चाल

मेष राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव आठवें भाव में में पड़ रहा है। जिससे आपको अपने स्वास्थ्य पर पूरा ध्यान देना होगा। वैवाहिक जीवन में उतार-चढ़ाव आ सकते हैं, लेकिन आर्थिक स्थिति सामान्य रहेगी।

वृषभ राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव सातवें भाव में में पड़ रहा है। जिसके कारण आपको इन चार महिनों कठिनाईयों का सामना करना पड़ सकता है। जीवनसाथी से मतभेद हो सकता है। परिवार, कार्यक्षेत्र में तनाव का सामना करना पड़ सकता है। मानसिक तनाव से बचें।

मिथुन राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव छठे भाव में पड़ रहा है। गुरु के प्रभाव से आपका कार्यक्षेत्र प्रभावित होगा ही और आपके लिए कई अन्य परेशानियां भी खड़ी हो सकती है। हालांकि धैर्य से और योजनाबद्ध तरीके से काम करें।

कर्क राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव आपके पांचवें भाव में पड़ रहा है। इन समय में आपको भरपुर आर्थिक लाभ होगा, इनकम बढ़ेगी। लेकिन सहकर्मियों से बचकर रहें, पॉलिटिक्स में ना फंसे। दुश्मन नुकसान पहुंचा सकते हैं, थोड़ी-सी सतर्कता आपको बचा सकती है।

सिंह राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव आपके चौथे भाव में पड़ रहा है। यह गोचर आपके स्वभाव में चिढ़चिढ़ापन और आलस बढ़ाएगा। इस समय आपको कड़ी मेहनत करनी होगी, जो कुछ प्राप्त करना होगा सबकुछ मिलेगा। भाग्य का साथ इस समय में नहीं मिल पाएगा।

कन्या राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव तीसरे भाव में पड़ रहा है। इस दौरान आपको पार्टनरशिप के कार्यों में सतर्कता बरतनी होगी। इन दिनों आपको अचानक धनलाभ हो सकता है। व्यापार में लाभ संभव है। परिवार या दोस्तों के साथ घुमने जा सकते हैं।

तुला राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव दूसरे भाव में पड़ रहा है। इस दौरान आपकी लव-लाइफ काफी रोमांटिक रहेगी। पार्टनर के साथ यादगार समय व्यतीत करेंगे। हालांकि आप अपने कार्यक्षेत्र से उतने संतुष्ट नहीं होंगे, जितनी आपको उम्मीद थी। लेकिन कुल मिलाकर समय आपके साथ है।

वृश्चिक राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव प्रथम भाव में पड़ रहा है। इसके फलस्वरूप आप अपने कार्यक्षेत्र में शानदार प्रदर्शन करेंगे। जॉब में बदलाव कर सकते हैं। आपको बड़ी मात्रा में धनलाभ होगा। सेहत का ध्यान रखें और ईर्ष्या रखनेवाले लोगों से सावधान रहें।

धनु राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव बारहवें भाव में पड़ रहा है। इस दौरान आपके खर्चों में अत्यधिक बढ़ोतरी हो सकती है। दुश्मन आपके लिए परेशानी खड़ी करने का प्रयास करेंगे। आपको आलस का त्याग कर सही दिशा में आगे बढ़ना होगा।

मकर राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव ग्यारहवें भाव में पड़ रहा है। आर्थिक रूप से कुछ तंगी का अहसास हो सकता है। आपको नई जॉब या कोई नया कार्य करने का अवसर मिल सकता है।

कुंभ राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव दसवें भाव पर पड़ रहा है। इस दौरान आपको कार्यक्षेत्र में नए अवसर प्राप्त होंगे। लव लाइफ अच्छी रहेगी। अकेलेपन के भाव को खुद पर हावी न होने दें।

मीन राशि
आपकी राशि में वक्री गुरु का प्रभाव नौवें भाव में पड़ रहा है। इस दौरान भाग्य आपका पूरा साथ देगा। आपको कार्यों में सफलता मिलेगी और आप नई ऊंचाइयों को छुएंगे। आर्थिक स्थिति बहुत मजबूत होगी।