जाने कैसे करे आप अपने हार्ट की मेंटिनेंस, अभी पढ़े

38

लाइव हिंदी खबर (हेल्थ कार्नर ) :-   सीवीडी /कार्डियोवस्क्यूलर डिजीज का तात्पर्य ऐसी बीमारियों से है जिनमें तमाम तरह के हृदय रोग और स्ट्रोक शामिल हैं। सीवीडी के कारण हर वर्ष लगभग दो करोड़ लोग मौत के मुंह में समा जाते हैं। माना जा रहा है कि 2020 तक दुनियाभर में मृत्यु व अक्षमता का प्रमुख कारण सीवीडी होगा। सिर्फ भारत में 25 फीसदी मौतें कार्डियोवस्क्यूलर बीमारियों से होती हैं।

मुश्किल नहीं है हार्ट की मेंटिनेंस

हालांकि वल्र्ड हार्ट फेडरेशन के विशेषज्ञों का कहना है कि सीवीडी श्रेणी की बीमारियों को जड़ जमाने से पहले ही रोका जा सकता है। इसके लिए बस खानपान की समझदारी और नियमित शारीरिक व्यायाम जरूरी हंै। जानते हैं 5 से 65 वर्ष की उम्र में बिना खर्च सिर्फ शारीरिक क्रियाओं/फिजिकल एक्टिविटीज से सीवीडी सुरक्षा कैसे ली जा सकती है।

बच्चों के लिए सीवीडी सुरक्षा

फिजिकल एक्टिविटी के जरिए निकला पसीना न केवल बच्चों की एकाग्रता व बढ़ाता है बल्कि इससे उनका विकास अच्छी तरह होता है। वे अनचाही कमजोरी, बढ़ते वजन से दूर रहते हैं और उन्हें बीमारियां नहीं सताती।

इस उम्र के बच्चों और युवाओं को हर रोज कम से कम 60 मिनट तक कोई न कोई शारीरिक क्रिया/फिजिकल एक्टिविटी जरूर करनी चाहिए।

शहरीकरण ने बच्चों का बहुत नुकसान किया है। ऐसे में अभिभावकों की जिम्मेदारी बनती है कि बच्चों को आउटिंग के लिए लेकर जाएं, उन्हें साइकिल चलाने के लिए प्रोत्साहित करें।

बचपन में की गई दौड़-भाग वाली फिजिकल एक्टिविटीज अगर वयस्कता तक जारी रहें तो आगे के ४०-५० साल के जीवन में सीवीडी और स्ट्रोक का खतरा कम हो जाता है।

वयस्कों के लिए सीवीडी सुरक्षा

18 से 64 वर्ष

वयस्कों को यदि सीवीडी से बचना है तो प्रति सप्ताह कम से कम 150 मिनट की हल्की या 75 मिनट की तेज शारीरिक क्रियाएं करनी चाहिए। ऐसा करने पर ही वयस्कों में , कोरोनरी हार्ट डिजीज, स्ट्रोक और टाइप-2 डायबिटीज का खतरा कम हो सकता है।

वयस्कों के लिए फिजिकल एक्टिविटी का मतलब सिर्फ कोई खेल खेलने तक सीमित नहीं है। वे वॉकिंग, घर के , डांस और व्यायाम जैसी गतिविधियों के जरिए कैलोरी खर्च कर खुद को फिट रख सकते हैं।

World Heart Day, Awareness Can Be Protected From This Disease - विश्व हृदय दिवस : डॉक्टर बोले...अपने दिल का रखें ख्याल | Patrika News

१५० मिनट की हल्की शारीरिक क्रियाएं हृदय रोगों की आशंका को 30 प्रतिशत तक और डायबिटीज की आशंका को २७ प्रतिशत तक कम कर सकती हंै।

 

दुनियाभर के आंकड़े बताते हैं कि किसी भी तरह की शारीरिक क्रियाएं न करने से करीबन 30 लाख लोगों की जान चली जाती है जिन्हें बस हर रोज थोड़ा सा पसीना बहाकर रोका जा सकता है।

 

मध्यम तीव्रता की शारीरिक क्रियाएं

 

इस श्रेणी में वॉकिंग, डांसिंग, बागवानी, घर के काम करना आदि शामिल होते हैं।

 

तीव्रता भरी शारीरिक क्रियाएं

 

इस श्रेणी में दौडऩा, साइकिल चलाना, तैरना और आउटडोर खेलों में सक्रिय भाग लेना आदि शामिल होते हैं।

हार्ट फेल (फेलियर) होने के लक्षण, कारण, इलाज, दवा, उपचार और परहेज - Heart fail hone ke lakshan, karan, upchar, ilaj, dawa in Hindi

बुजुर्गों के लिए सीवीडी सुरक्षा

 

64 वर्ष से ज्यादा उम्र

यदि आप पहले से कोई शारीरिक क्रिया नहीं कर रहे हैं तो छोटे रूप में शुरू कीजिए और फिर धीरे-धीरे अपना समय क्षमता के अनुसार बढ़ाएं। किसी भी तरह की समस्या आने पर एक्सपर्ट या डॉक्टरी सलाह जरूर लें।