डायबिटीज टाइप-2 में मिलता है फायदा तुकमरिया खाने से, जाने आप अभी

316

लाइव हिंदी खबर(हेल्थ टिप्स ) :-   तुकमरिया को सब्जा के बीज, मीठी तुलसी के बीज, काजा पिंगेन, बाबची आदि नाम से भी जानते हैं। इसके स्वादविहीन बीज भिगोने पर अपने आकार से तीस गुना फूलते हैं। आधा चम्मच तुकमरिया का एक बार में प्रयोग करना काफी है। इसका उपयोग गर्मी के दिनों में तरावट के लिए किया जाता है। आइए जानते हैं इनके फायदाें के बारे में

तुकमरिया खाने से डायबिटीज टाइप-2 में मिलता है फायदा

डायबिटीज : डायबिटीज टाइप-2 में लाभकारी है। वैसे इसके द्वारा बिना शक्कर के प्रयोग से पेय तैयार किया जा सकता है जिसे दूध के साथ या सोयाबीन के दूध के साथ भी बनाया जा सकता है।

संक्रमण : यूरिनरी ब्लैडर में संक्रमण को रोकता है। इसका प्रयोग शहद के साथ लाभ देता है। गुलाब की पत्तियों के साथ भी इसका प्रयोग करने से अच्छे परिणाम सामने आते हैं।

मधुमेह, मूंगफली में भरपूर मात्रा में प्रोटीन और फाइबर पाया

पेट की जलन : गर्मी से पेट, आंखों, हथेलियों और पैरों के तलवों की जलन को शांत करता है तकमरिया।

एसिडिटी: दूध में भिगोकर पीने और गुलाब की पत्तियों के साथ लेने से एसिडिटी में आराम मिलता है।