देवगुरु बृहस्पति की कृपा से बनता है कुंडली में राजयोग, जरूर जानें कैसे

288

हर कोई चाहता है कि जीवन के हर क्षेत्र में सफलता मिले, लेकिन ऐसा हो नहीं पाता। इसके पीछे कई कारण होते हैं। अगर ज्योतिष शास्त्र के अनुसार बात की जाए तो जीवन में सफलता के पीछे बृहस्पति की स्थिति बहुत ही खास मानी जाती है। ज्योतिषी भी मानते हैं कि बृहस्पति की कृपा से ही कुंडली में राजयोग बनता है। ज्योतिष के अनुसार, नवग्रहों में बृहस्पति सबसे अधिक शुभ ग्रह है। यही कारण है कि बृहस्पति देवी-देवताओं के भी गुरु माने जाते हैं। इनको देवगुरु भी कहा जाता है।

बृहस्पति की कृपा से कुंडली में बनता है राजयोग, जानें कैसे

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, जीवन में हर सफलते के पीछे बृहस्पति का ही हाथ होता है। इन सबके अलावा ज्योतिषी ये भी मानते हैं कि बृहस्पति के कारण ही राजयोग बनता है। बृहस्पति के कारण बनने वाला राजयोग को गजकेसरी योग होता है। तो आइये जानते है कि बृहस्पति के कारण कैसे बनता है राजयोग…

ज्योतिष के अनुसार, राजयोग तब बनता है जब कुंडली में चंद्रमा और बृहस्पति एक दूसरे के केन्द्र में होते हैं। इस योग में बृहस्पति, कर्क राशि में हो या चंद्रमा वृषभ राशि में हो। ज्योतिष के अनुसार, ऐसे कुंडली वाले लोग जीवन इतिहास गढ़ते हैं। इन्हें अत्याधिक सफलता मिलती है। ज्योतिषी के अनुसार, जीवन में घटने वाली हर बड़ी घटना के पीछे बृहस्पति ही होते हैं।

अगर आपकी कुंडली में गजकेसरी योग बन रहा है, तो कुछ बातों का ध्यान भी रखना चाहिए। अगर आपके कुंडली में गजकेसरी योग है तो बड़े-बुजुर्गों का सम्मान करें। कोई भी शुभ कार्य करने से पहले माता-पिता का आशीर्वाद अवश्य लें। इन सबके अलावा मांस मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए और झूठ बोलने से परहेज करना चाहिए।