धन वर्षा के साथ शादी के भी बनेंगे संयोग, “वासुदेवाय” जाप से करें दिन की शुरुआत

“वासुदेवाय” जाप से करें दिन की शुरुआत, धन वर्षा के साथ शादी के भी बनेंगे संयोग

“वासुदेवाय” जाप से करें दिन की शुरुआत, धन वर्षा के साथ शादी के भी बनेंगे संयोगलाइव हिंदी खबर :-बहुत मेहनत के बाद भी अगर आप सफल नहीं हो पा रहे हैं या पारिवारिक कलह लगातार बनी हुई है। संपत्ति में कुछ खास लाभ नहीं हो रहा है या गुरु दोष के चलते आपकी शादी में लगातार बाधा आ रही है, तो आज यानी गुरुवार का दिन आपके लिए खास हो सकता है। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार गुरुवार को किए गए उपाय जातक को सफलता प्रदान करते हैं। गुरु दोष हो तो आज के दिन उसके शांति का उपाय करके अनुकूल बनाया जा सकता है। गुरुवार का दिन बृहस्पति देव का माना जाता है, शास्त्रों के अनुसार आज के दिन यदि व्यक्ति “वासुदेवाय” जाप से अपने दिन की शुरुआत करे तो उन्हें अपने काम में बड़ी सफलता प्राप्त होती है और धन की कभी कमी नहीं होती। ऐसे ही कुछ उपाय करके आप भी बृहस्पति देव को खुश कर सकते हैं।

पानी में चुटकी भर हल्दी डाल कर करें स्नान

आज के दिन नहाते समय पानी में चुटकी भर हल्दी डाल कर नहायें और साथ में “ॐ नमो भगवते वासुदेवाय” का जाप करें। नहाने के बाद विष्णु भगवान को बेसन के बने लड्डू या पीले रंग के फल का भोग लगाएं और देशी घी का दिया जलाएं। कोशिश करें की आज आप खुद कोई पीले रंग का ही भोजन ग्रहण करें और पीले रंग के वस्त्र पहनें। इससे बृहस्पति देव प्रसन्न होते हैं और धन की कृपा बनी रहती है।

अगर शादी में आ रही हो बाधा

शास्त्रों के अनुसार, स्वामी बृहस्पति को ही विवाह का स्वामी भी माना जाता है। अगर आप की भी शादी में विलम्ब हो रहा हो या शादी तय होते-होते रह जाती हो तो, आपको गुरुवार के दिन आटे के पेड़े पर थोड़ी सी हल्दी लगाकर गाय को खिलाना चाहिए। साथ ही केले के पेड़ पर पीले कपड़े के साथ गुड़ और चने का भोग लगाना शुभ होगा।

पीले रंग के वस्तुओं का ही करें दान

गुरुवार के दिन पीले रंग का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करें। कोशिश करें की खुद पीले रंग को धारण करें। चने की दाल, पीली मिठाई या पीला फल खाएं। दान में भी गरीबों को या जरूरत मंदों को पीले रंग के कपड़े या पीली वस्तुएं ही दान करें। शाम होते-होते केले के पेड़ के नीचे घी का दिया जरुर जलाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *