धोनी के नाम जुड़ा है ये 5 काला धब्बा, चाहकर भी उस दर्दनाक पल को नहीं भुला पा रहे हैं, एक की वजह से धोनी के घर पर पड़े थे पत्थर

16


महेंद्र सिंह धोनी भारतीय क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तान है, क्योंकि उनकी अगुवाई में टीम इंडिया आईसीसी के सभी ट्रॉफी जीतने में कामयाब रही है। इस वजह से धोनी के चर्चे हमेशा होते रहते हैं। एमएसडी ने साल 2019 में इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा था, तब उनके समर्थक बहुत निराश हुए थे।

महेंद्र सिंह धोनी

महेंद्र सिंह धोनी भले ही इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कह चुके हैं, लेकिन इंडियन प्रीमियर लीग में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए वो अभी भी खेलते हैं। एमएसडी आईपीएल इतिहास के दूसरे सबसे सफल कप्तान भी है। धोनी के क्रिकेट करियर में कई बार ऐसे पल आए हैं जिसे वो चाहकर भी कभी नहीं भुला पाएंगे।

1. साल 2007 विश्व कप के बाद भड़क गए थे फैंस

साल 2007 के वर्ल्ड कप में जब टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा था, उसके बाद भारतीय फैंस भड़क गए थे। उस दौरान फैंस भारतीय खिलाड़ियों के पुतले फूंके थे, इसके अलावा उन्होंने धोनी के घर पर पत्थर भी फेंका था। इस वजह से उनके घर के बाहर सुरक्षा बल लगाना पड़ा था। इन सबके तकरीबन पांच महीने बाद एमएसडी की कप्तानी में भारत को 2007 का टी-20 वर्ल्ड कप जीतने का सौभाग्य मिला।

रोहित शर्मा अपने ही जिगरी दोस्त का बना दुश्मन, आंकड़े धोनी-कोहली से बेहतर, फिर भी टीम से हुआ बाहर

2. साल 2019 विश्व कप के बाद धोनी की हुई आलोचना

साल 2019 विश्व कप के दौरान महेंद्र सिंह धोनी अच्छी फॉर्म में नहीं थे, जिस वजह से उनका बल्ला पूरी तरह से खामोश देखने को मिला था। उस वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल मैच में न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम इंडिया को बुरी तरह हार मिली थी, जिस वजह से बहुत सारे फैंस ने एमस धोनी पर निशाना साधा था।

3. ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध सीरीज के बाद हुई आलोचना

भारतीय क्रिकेट टीम साल 2011-12 में ऑस्ट्रेलिया के साथ बाॅर्डर गावस्कर ट्राॅफी खेली थी, जिसमे उन्हें 4-0 से हार का सामना करना पड़ा था। उस श्रृंखला में धोनी से अधिक उम्र के क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर, वीरेन्द्र सहवाग और गौतम गंभीर भी खेले थे। उस सीरीज के बाद धोनी की खूब आलोचना हुई थी, क्योंकि फैंस को मालूम चल गया था कि धोनी तथा टीम के सीनियर खिलाड़ियों के बीच कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है।

रोहित और राहुल बार-बार अपने ही पैर पर मार रहे कुल्हारी, अब टीम से कट सकता है पत्ता

4. आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग का मामला

साल 2013 के आईपीएल में स्पॉट फिक्सिंग का मामला सामने आया था। उस दौरान एस श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजीत चंडीला जैसे खिलाड़ियों का नाम इस लिस्ट में सबसे उपर था। उसके बाद एमएस धोनी का नाम भी इसमें जोड़ा गया, लेकिन जांच के बाद वो निर्दोष पाए गए थे, लेकिन चेन्नई सुपर किंग्स की फ्रेंचाइजी को दो साल के लिए बैन कर दिया गया था।

5. साल 2015 में आया था शेयरों का संदिग्ध मामला

साल 2015 में बीसीसीआई को रिति स्पोर्ट्स मैनेजमेंट और महेंद्र सिंह धोनी के संदिग्ध हिस्सेदारी के बारे में जानकारी मिली थी। उस के लिए एमएसडी को 15 प्रतिशत का मालिक बनाया गया था। इस मामले को लेकर कई पूर्व क्रिकेटरों ने धोनी की आलोचना की थी, लेकिन जांच में कुछ भी नकारात्मक सामने नहीं आया।

सूर्यकुमार यादव अपने ही 4 करीबी दोस्तों के बनते जा रहे दुश्मन, एक तो निकला उनकी पत्नी का भाई