मंदिर के पीछे मिली चीज़ को खिलौना समझकर घर ले आए बच्चे, फिर सच्चाई जानकर मची खलबली

171

लाइव हिंदी खबर :- उत्तराखंड के चंपावत से एक बेहद ही हैरान कर देने वाला मामला सामने आया है। इस मामले ने इतिहासकारों का भी दिमाग भन्न कर दिया है। चंपावत में ब्लॉक कार्यालय के पुराने आवासीय भवन के पास कुछ ऐसी चीज़ें मिली हैं, जिसे देख इतिहासकार भी हैरान हैं। दरअसल इस आवासीय भवन के पास एक मंदिर है, जिसके पीछे कुछ बच्चे खेल रहे थे। खेल-खेल में बच्चों की नज़रें शिवलिंग पर पड़ी। बच्चों को शिवलिंग काफी आकर्षित लगा, इसलिए वे इसे उठाकर घर ले आए। बच्चों के हाथ लगे इस शिवलिंग का वज़न करीब दो किलो है।

मंदिर के पीछे मिली चीज़ को खिलौना समझकर घर ले गए बच्चे, सच्चाई जानकर मची खलबली

इस पूरे वाक्ये के बाद जब यहां खुदाई की गई तो लोगों की सिट्टी-पिट्टी गुल हो गई। खुदाई के दौरान यहां जगह-जगह पर भारी संख्या में शिवलिंग मिले। लेकिन जमीन के नीचे से मिले इन शिवलिंग के सच्चाई पता चली तो लोगों के पैरों तले जमीन खिसक गई। इतिहासकारों ने बताया कि ये शिवलिंग कोई साधारण शिवलिंग नहीं बल्कि बेहद ही खास हैं।

खुदाई में जमीन के नीचे से मिला शिवलिंग:पूजापाठ में जुटे स्थानीय लोग - India  Prime News

इतिहासकार देवेंद्र ओली की मानें तो ये शिवलिंग 700-800 साल पुराने हो सकते हैं। शिवलिंग के बारे में जानकारी जुटाने वाले इतिहासकारों ने बताया कि ये शिवलिंग 12-13वीं शताब्दी के हो सकते हैं, जिन्हें चंद शासनकाल के दौरान बनाया गया होगा। खुदाई में मिले कुछ शिवलिंग को पूर्ण रूप से तैयार हैं, जबकि कुछ शिवलिंग बिना फिनिशिंग के ही मिले हैं।

Shivling from Sand Photograph by Gaurav Singh

यहां के एक स्थानीय निवासी भैरव दत्त जोशी ने बताया कि आए दिन किसी न किसी तरह की खुदाई के वक्त ऐसे शिवलिंग काफी संख्या में मिल जाते हैं। भैरव की मानें तो ये शिवलिंग न सिर्फ मंदिर की जगह पर बल्कि आस-पास के इलाकों में भी मिल जाते हैं। ओली ने फिलहाल शिवलिंग के बारे में ज़्यादा बोलने से बचने का ही प्रयास किया है। उनका मानना है कि जब तक पुरातत्व विभाग इन शिवलिगों का अवलोकन नहीं कर लेता, तब तक कुछ भी कहना जल्दबाज़ी होगी।