मात्र 21 दिन लगातार कर लें ये काम,श्री कृष्ण जैसी सुंदर संतान की होगी प्राप्ति

133

हिन्दू शास्त्रों में हर परेशानी से बाहर आने के समाधान दर्ज हैं। रोग हो या धन का संकट या फिर परिवार में कलह की दिक्कत हो, हर उलझन को सुलझाने के लिए समाधान मौजूद है। लेकिन शास्त्रिय उपायों को करने के लिए व्यक्ति के मन में देवी-देवताओं के प्रति आस्था जरूरी होती है। क्योंकि समस्याओं के अनुसार देवताओं की पूजा व उपाय सफल होते हैं। यदि किसी दंपति को संतान सुख की प्राप्ति नहीं होती या फिर बहुत कठिनाईयों का सामना करना पड़ रहा है। तो आपको श्रीकृष्ण का ध्यान करना चाहिए। हिन्दू धर्म की मान्यताओं के अनुसार कृष्ण के गोपाल रूप की पूजा करने से कृष्ण जैसी ही प्यारी और सुंदर संतान मिलती है। इस मनोकामना को पूर्ण करने के लिए 21 दिनों की साधना की जाती है। आइए जानते हैं कैसे करनी चाहिए यह साधना…..

मात्र 21 दिन लगातार कर लें ये काम,श्री कृष्ण जैसी सुंदर संतान की प्राप्ति के लिए

संतान प्राप्ति के लिए श्रीकृष्ण की साधना

शास्त्रों में 21 दिन की साधना का उल्लेख मिलता है। यदि साधक चाहे तो यह साधना 45 दिन या इससे बढ़कर भी की जा सकती है। यह पूरी श्रद्धा पर निर्भर करता है। मगर कम से कम 21 दिन लगातार कृष्ण के गोपाल रूप की पूजा करना अनिवार्य है। यदि 21 दिनों तक विधिवत यह साधना कर ली जाए तो संतान का सुख प्राप्त होता है।

इस विधि से करें साधना

सुबह जल्दी उठकर स्नान करें, इसके पश्चात साफ वस्त्र पहनें और पूजा के लिए प्रसाद बनाएं। भगवान के प्रसाद में लड्डू बनाएं। ये लड्डू साधक के ही हाथ से बने होने चाहिए। बाहर के लड्डुओं का भोग ना लगाएं। केवल दो लड्डू बनाएं। यदि पहले दिन दो लड्डुओं का इस्तेमाल हुआ है तो हर दिन इसी संख्या में लड्डू बनाएं। लड्डू बनाने के बाद कृष्ण के बाल रूप की तस्वीर या मूर्ति के सामने आसन लगाकर बैठ जाएं। हाथ में तुलसी या रुद्राक्ष माला लें और इनमें से किसी भी एक मंत्र का जाप करें। इस मंत्र से तीन माला का जाप आपको करना है।

सर्वधर्मान् परित्यज्य मामेकं शरणं व्रज।
अहं त्वा सर्वपापेभ्यो मोक्षयिष्यामी मा शुच।।

देवकीसुतं गोविन्दम् वासुदेव जगत्पते।
देहि में तनयं कृष्ण त्वामहं शरणं गतः।।

मंत्र जाप के बाद लड्डू गोपाल को प्रसाद का भोग लगाएं। यह प्रसाद सबसे पहले साधक खुद ग्रहण करें और फिर परिवार के सदस्यों में इसे बांटे। लगातार 21 दिनों तक इस साधना को करने से भगवान कृष्ण की कृपा बनती है और जातक को संतान सुख की प्राप्ति के योग भी बनने लगते हैं।