Breaking News

मानसिक तनाव के कारण हो सकती है हाई ब्लड प्रेशर जैसी बीमारी, जरूर जाने ये पूरी जानकारी

उच्च रक्तचाप की विकृति आधुनिक परिवेश में स्त्री और पुरुष को सबसे ज्यादा अधिक पीड़ित करती है ! स्थूल शरीर वाले स्त्री- पुरुष तो इसके अवश्य शिकार होते है ! गर्भावस्था में उच्च रक्तचाप नवुवतियों को बहुत व्यथित करता है ! चिकत्सकों के अनुसार उच्च रक्तचाप की विकृति धमनी , वृक्क ( गुर्दे का विकार ), मानसिक तनाव , शोक , चिंता की अधिकता और मस्तिष्क विकारो के कारण होती है !

लक्षण : उच्च रक्तचाप की विकृति में सीढ़ियां चढ़ने , थोड़ी दूर दौड़ने में सांस फूलने लगती है और हृदय की धड़कन तीव्र हो जाती है ! सिर में चक्कर आने , बात बात में क्रोध करने , चिड़चिड़ापन , घबराहट , नींद नहीं आने , बेचैनी , हृदय शूल और अधिक रक्तचाप होने पर नाक से रक्तस्त्राव होने लगता है !  और जब हमारे बॉडी पर दिल की नसों में खून भेजने पर अधिक दबाओ पड़ता है तो उसे हाई ब्लड प्रेशर कहते है। हाई ब्लड प्रेशर को ‘साइलेंट किलर’ भी कहते हैं क्योंकि ज्यादातर लोगों को यह पता नहीं होता कि वे इसकी गिरफ्त में हैं क्योंकि इसके लक्षण स्पष्ट नहीं होते। अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर की शिकायत है व उपचार करने के बाद भी आपको कोई लाभ नहीं हो रहा है। इसकी वजह से आये दिन आपको चक्कर आते हैं या सिर में असहनीय दर्द रहता है। इससे छुटकारा पाने के लिए ये घरेलू उपचार करे !

  • घरेलू उपचार : सर्पगंधा की जड़ का बारीक़ चूर्ण बनाकर 4 रत्ती चूर्ण शहद मिलाकर चाटकर खाने से उच्च रक्तचाप में बहुत लाभ होता है !
  • रुद्राक्ष को जल के साथ घिसकर चाटने से उच्च रक्तचाप कम होता है !
  • सहंजना का स्वरस 15 ग्राम मात्रा में सुबह और इतना ही रस  शाम को पिने से उच्च रक्तचाप में बहुत लाभ होता है!
  • लहसुन का रस  निकलकर 10 ग्राम मात्रा सुबह – शाम पीने से उच्च रक्तचाप कम होने लगता है !
  • प्रतिदिन 400 ग्राम पपीता खाने से उच्च राख्छाप की विकृति में बहुत लाभ होता है !
  • 25 ग्राम प्याज के रस में इतना हो शहद मिलाकर प्रीतिदिन सेवन करने से कुछ सप्ताह में उच्च रक्तचाप में लाभ होने लगता है
  • अर्क के फूलो की माला पहनने से उच्च रक्तचाप कम होता है !
  • गाजर का रस 200  ग्राम में 50 ग्राम पालक का रस मिलाकर प्रीतिदिन पीने से कुछ ही दिनों में उच्च रक्तचाप घटने लगता है !
  • उच्च रक्तचाप से पीड़ित रोगी को प्रीतिदिन २५-३० ग्राम गुलकंद खाने से कोष्ठबद्धता नष्ट होने के साथ बहुत लाभ होता है ! इन घरेलू उपचारो को करने से जिस किसी को भी उच्च रक्तचाप की शिकायत है सब खतम हो जाती है !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *