मीठे स्वर में बोलने वालों से रहें हमेशा सावधान, पहुंचा सकते हैं आपको नुकसान

182

समुद्रशास्त्र के अनुसार हम किसी भी व्यक्ति के बारे में सबकुछ पता लगा सकते हैं। जैसे व्यक्ति किसी तरह का है, व्यक्ति का भविष्य उसका व्यवहार या फिर उसकी मानसिकता का भी हम पता लगा सकते हैं। जी हां, समुद्रशास्त्र के अनुसार हम व्यक्ति के बोलने के तरीके से भी यह अनुमान लगा सकते हैं की व्यक्ति की प्रवृत्ति किस प्रकार की है। व्यक्ति आपके प्रति वफादार है या नहीं। अकसर हम मीठा बोलने वाले व्यक्ति को बहुत ही अच्छा व सज्जन इंसान समझते हैं ऐसे लोगों की हर जगह प्रशंसा होती है वहीं दूसरी तरफ कर्कश आवाज़ में बोलने वाले व्यक्ति की हमेशा निंदा होती है, लेकिन समुद्रशास्त्र तो इनके बारे में कुछ ओर ही बताता है। आइए जानते हैं क्या कहता है समुद्रशास्त्र….

मीठा बोलने वालों से रहें हमेशा बचकर, पहुंचा सकते हैं आपको नुकसान

1. समुद्रशास्त्र के अनुसार, ऊंची आवाज़ में बोलने वाले व्यक्ति खुद को हमेशा सही साबित करने वाले होते हैं। इनका मानना होता है की चाहे ये लोग सही हो या गलत इनकी हां में हां मिलाना चाहते हैं। जो व्यक्ति ऊंचे स्वर में बोलते हैं वे दूसरों का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करना चाहते हैं।

2. कुछ लोग जब बात करते हैं तो ऐसा लगता है कि वे किसी से झगड़ा कर रहे हैं लेकिन वास्तव में कर्कश बोलने वाले व्यक्ति ज्ञानी होते हैं और वे अपने ज्ञान से दूसरों का भला करना चाहते हैं।

3. इसके साथ ही समुद्रशास्त्र कहता है की जो लोग बहुत मीठा बोलते हैं और आसानी से किसी से भी घुल-मिल जाते हैं, ऐसे व्यक्ति दिल के बहुत मैले होते हैं। इनकी प्रवृत्ति धूर्त होती है। कहा जाता है की जैसे ही उन्हें अवसर मिलता है, वे अपने फायदे के लिए दूसरों को नुकसान पहुंचा देते हैं। इसीलिए ऐसे व्यक्तियों से हमेशा बचकर रहना चाहिए।