वास्तु शास्त्र: अगर बहुत सारी बातों का ध्यान रखा जाए तो घर में हमेशा सकारात्मक माहौल बना रहेगा

155

वास्तु शास्त्र: अगर बहुत सारी बातों का ध्यान रखा जाए तो घर में हमेशा सकारात्मक माहौल बना रहेगा लाइव हिंदी खबर :-पर्यावरण में जारी ऊर्जा हमारे मूड को प्रभावित करती है। और अगर आप अच्छे मूड में हैं तो हम हर काम में सफल होते हैं और अगर जड़ खराब है तो हर काम बर्बाद हो जाता है। इसलिए हमें घर को डिजाइन करते समय हमेशा कुछ टिप्स को ध्यान में रखना चाहिए। घर के अंदर किचन सबसे महत्वपूर्ण है। क्योंकि भोजन एक बुनियादी जरूरत है, इसलिए रसोई में हमेशा सकारात्मकता रखना जरूरी है। यहां आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताएंगे जिन्हें ध्यान में रखना बहुत जरूरी है।

रसोई की दिशा: सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह सुनिश्चित करने के लिए निर्माण हमेशा दक्षिण पूर्व दिशा में किया जाना चाहिए। यदि यह उत्तर-पूर्व दिशा में है, तो यह नकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह पैदा करेगा। यदि यह दक्षिण पश्चिम में स्थित है, तो यह परिवार के सदस्यों के बीच झगड़े और मतभेद पैदा कर सकता है। उत्तर पश्चिम में रसोई बहुत सारे खर्चों का कारण बन रही है यदि यह उत्तर में है, तो यह अप्रत्याशित और अनियंत्रित खर्च का कारण बनता है। इसलिए, रसोई में सबसे अच्छी दिशा दक्षिण पूर्व है।

रसोई घर में मंदिर: रसोई घर में शौचालय नहीं होना चाहिए। यह भोजन में नकारात्मकता और अशुद्धता लाता है। यदि रसोई पूजा कक्ष या पूजाघर के ऊपर या ऊपर स्थित है, तो यह भी अशुभ हो जाता है।

दीवारों का रंग: रसोई की दीवार के लिए काले रंग से बचना चाहिए। इसके बजाय आप पीले, नारंगी, गुलाब, चॉकलेट या लाल का उपयोग कर सकते हैं।

खाना पकाने की दिशा: दक्षिण की ओर मुंह करके खाना न बनाएं। इससे आर्थिक हानि होती है। मो राखी को पूर्व दिशा में पकाना चाहिए।

रसोई का दरवाजा: रसोई का दरवाजा उत्तर पूर्व या पश्चिम की दीवार में होना चाहिए। यह कोने में नहीं होना चाहिए।

फ्रिज: फ्रिज को उत्तर-पूर्व दिशा में न रखें। इसे दक्षिण पूर्व, दक्षिण पश्चिम या उत्तर दिशा में रखा जा सकता है।