शरीर की सबसे गंभीर बीमारियों को इस आसन की मदद से हटाया जा सकता है, रहस्य जानें

346

शरीर की सबसे गंभीर बीमारियों को इस आसन की मदद से हटाया जा सकता है, रहस्य जानें लाइव हिंदी खबर :-मानव शरीर अनंत रहस्यों से भरा है। शरीर की एक मुद्रा में भाषा है, जो शारीरिक स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है। यह शरीर पंचतत्वों के योग से बना है। ये पाँच तत्व हैं – (१) पृथ्वी (२) जल (३) अग्नि (३) वायु और (४) आकाश। हस्तरेखा शास्त्र के अनुसार, स्वास्थ्य का रहस्य उंगलियों और पैर की उंगलियों से बनी मुद्राओं में है। पंचतत्व हाथ की उंगलियों में पूजनीय है। ऋषियों ने हजारों साल पहले इसका आविष्कार किया था और इसे दैनिक आधार पर उपयोग करना जारी रखा, इसलिए वे लोग कई वर्षों तक स्वस्थ रहे। ये आसन शरीर में चेतना व्यक्त करने की कुंजी हैं।

हाथ की अंगुलियों से विशेष आकृतियाँ बनाना हाथ का इशारा कहलाता है। हाथ की सभी अंगुलियों में पांच तत्व होते हैं। जैसे अंगूठे में अग्नि तत्व, तर्जनी में वायु तत्व, मध्य उंगली में आकाश तत्व, अनामिका में पृथ्वी तत्व और छोटी उंगली में जल तत्व। उंगलियों के पांच वर्गों से अलग-अलग विद्युत धाराएं बहती हैं। इसीलिए आसन में, जब अंगुलियां एक-दूसरे को बीमारी के अनुसार छूती हैं, तो शरीर की शक्ति बाधित या असंतुलित बिजली के प्रवाह से जागृत होती है और हमारा शरीर स्वस्थ होने लगता है।

जैसे ही वे ये अद्भुत आसन करते हैं, वे अपना असर दिखाना शुरू कर देते हैं। किसी भी आसन को करते समय उन उंगलियों को सीधा रखें जिनका कोई कार्य नहीं है। इनमें से बहुत सारे आसन हैं लेकिन हमने यहां कुछ मुख्य बिंदुओं का वर्णन किया है।

अनुष्ठान: तर्जनी के सिरे पर अंगूठे को रखें। अन्य तीन अंगुलियों को चित्र के अनुसार रहने दें।

लाभ: स्मृति विकसित होती है और ज्ञान बढ़ता है। अध्ययन से मन लगता है और अनिद्रा नष्ट होती है। प्रकृति में परिवर्तन, आध्यात्मिक शक्ति का विकास और क्रोध का नाश है।

सावधानी: भोजन को सात्विक रखना चाहिए। पत्तियों, मसालों, एस्कुट नट, तम्बाकू आदि का सेवन न करें। बहुत गर्म या बहुत ठंडा न पियें।