शी चिनफिंग की मिस्र और किर्गिजस्तान के राष्ट्रपतियों से हुई बातचीत

0


बीजिंग, 23 फरवरी (आईएएनएस)। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने 22 फरवरी को मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल सीसी और किर्गिजस्तान के राष्ट्रपति सादिर जापारोव के साथ फोन पर बातचीत की।

अब्देल फतह अल सीसी से वार्ता करते हुए शी चिनफिंग ने कहा कि मिस्र नए चीन के साथ राजनयिक संबंध स्थापित करने वाला पहला अरबी और अफ्रीकी देश है। चीन-मिस्र संबंध चीन-अरब और चीन-अफ्रीका एकता, सहयोग और आपसी लाभ का मॉडल है। चीन हमेशा से कूटनीति की समग्र स्थिति में मिस्र को एक महत्वपूर्ण स्थान पर रखता है। मिस्र के विश्वसनीय दोस्त और साझेदार के रूप में चीन राष्ट्रीय संप्रभुता, स्वतंत्रता और प्रादेशिक अखंडता की रक्षा के लिए मिस्र के प्रयासों का समर्थन करता है और अपनी राष्ट्रीय परिस्थितियों के अनुकूल विकास रास्ते पर चलने में मिस्र के लोगों का समर्थन करता है। चीन मिस्र के साथ राजनीतिक आपसी विश्वास को मजबूत करने, एक दूसरे के समर्थन बढ़ाने, अंतरराष्ट्रीय और क्षेत्रीय मामलों में समन्वय और सहयोग को मजबूत करने और संयुक्त रूप से बहुपक्षवाद व अंतर्राष्ट्रीय निष्पक्षता की रक्षा करने को तैयार है। कोविड-19 के प्रकोप के बाद चीन और मिस्र ने एक-दूसरे को आपातकालीन महामारी रोधी सामग्री प्रदान की, जिससे साबित होता है कि विपरीत परिस्थितियों में सच्चा प्यार दिखता है। चीन, मिस्र के साथ वैक्सीन सहयोग को मजबूत करने, महामारी के संयुक्त मुकाबले में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय का समर्थन करने और मानव स्वास्थ्य समुदाय के निर्माण को बढ़ावा देने को तैयार है।

वहीं, अब्देल फतह अल सीसी ने चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की स्थापना की 100वीं वर्षगांठ पर बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस वर्ष मिस्र और चीन के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना की 65वीं वर्षगांठ है। मिस्र और चीन की पारंपरिक मित्रता बहुत गहरी है और दोनों देशों के संबंध मजबूत व मैत्रीपूर्ण हैं। अंतर्राष्ट्रीय मामलों में मिस्र और चीन घनिष्ठ सहयोग करते हैं और दोनों देशों के लोगों के हितों को बढ़ावा देते हैं। मिस्र ²ढ़ता के साथ हांगकांग, शिनच्यांग, ताइवान से जुड़े और अन्य मामलों में चीन की सैद्धांतिक स्थिति का समर्थन करता है, राष्ट्रीय संप्रभुता, सुरक्षा और एकीकरण की रक्षा करने में चीन का समर्थन करता है और मानव अधिकारों के बहाने से चीन के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने का विरोध करता है। मिस्र चीनी कंपनियों का मिस्र में निवेश और सहयोग करने में स्वागत करता है और चीन के साथ रणनीतिक साझेदारी संबंधों को और आगे बढ़ाने को तैयार है। कोविड-19 महामारी से लड़ने में अफ्रीका और विकासशील देशों को बहुमूल्य सहायता देने के लिए चीन का धन्यवाद और चीन के साथ वैक्सीन सहयोग को मजबूत करने की उम्मीद भी है।

सादिर जापारोव से बातचीत करते हुए शी चिनफिंग ने कहा कि चीन और किर्गिस्तान के बीच राजनयिक संबंधों की स्थापना के 29 सालों में दोनों देशों के संबंधों ने बदलती अंतर्राष्ट्रीय परिस्थिति में खड़े होकर स्वस्थ व स्थिर विकास का रुझान बरकरार रखा है। दोनों पक्ष एक-दूसरे के मूल हितों से जुड़े मामलों में ²ढ़ता से एक-दूसरे का समर्थन करते हैं। बेल्ट एंड रोड के सहनिर्माण में फलदायक परिणाम प्राप्त हुए। दोनों देश अंतरराष्ट्रीय मामलों में घनिष्ठ समन्वय और सहयोग करते है। चीन को पूरी उम्मीद है कि किर्गिस्तान स्थिर विकास प्राप्त करेगा। चीन अपनी राष्ट्रीय परिस्थितियों के अनुकूल विकास रास्ते पर चलने और राष्ट्रीय संप्रभुता, स्वतंत्रता और प्रादेशिक अखंडता की रक्षा करने में किर्गिस्तान का समर्थन करता है। चीन किर्गिस्तान के साथ चीन-किर्गिस्तान चतुमुर्खी रणनीतिक साझेदारी को नए स्तर पर पहुंचाने को तैयार है।

वहीं, सादिर जापारोव ने कहा कि किर्गिस्तान के आर्थिक और सामाजिक विकास में बहुमूल्य सहायता प्रदान करने और कोविड-19 महामारी के मुकाबले में किर्गिस्तान का समर्थन करने के लिए किर्गिस्तान चीन का आभारी है। चीन किर्गिस्तान का एक अच्छा पड़ोसी, दोस्त और साझेदार है, जिस पर किर्गिस्तान हमेशा विश्वास करता है। किर्गिस्तान हांगकांग, शिनच्यांग और ताइवान जैसे चीन के प्रमुख हितों से जुड़े मुद्दों पर चीन के रवैया का ²ढ़ता से समर्थन करता है और एक चीन का सिद्धांत का पालन करता है। किर्गिस्तान में निवेश करने के लिए चीनी कंपनियों का स्वागत है। किर्गिस्तान चीन के साथ मानव साझे भाग्य समुदाय के निर्माण को बढ़ाने को तैयार है। विश्वास है कि चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग के नेतृत्व में चीनी लोग अधिकाधिक सफलता प्राप्त करेंगे।

(साभार-चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

— आईएएनएस

विज्ञापन