सिर्फ पेट ही नहीं भरती रोटी,बदल सकती है आपकी किस्मत जाने कैसे

89

कहा जाता है कि इंसान की सबसे पहली जरुरत है रोटी, कपड़ा और मकान। अगर ये तीनों चीजें मिल जाए तब इंसान इसके बाद का सोचता है। आज हम आपके रोटी के कुछ ऐसे उपाय के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसे जानकर आप हैरान हो जाएंगे। दरअसल, रोटी से तो पेट भरती ही है, इससे किस्मत भी बदल जाती है। अब आप सोच रहे होंगे कि वो कैसे तो हम आपको बताते हैं…

सिर्फ पेट ही नहीं भरती रोटी, किस्मत भी बदल जाती है… जानें कैसे

  • घर की रसोई में पकने वाली पहली रोटी में शुद्ध घी लगाकर उसे चार टुकड़ा कर लें। सभी टुकड़ों पर चीनी या गुड़ रख लें। इसके बाद एक टुकड़े को गाय को खिला दें, दूसरे कुत्ते को, तीसरे को कौवे को और चौथे के किसी भिखारी को दे दें। ऐसा करने से आपके बिगड़े काम बनने लगेंगे।
  • अगर आप शनि ग्रह से पीड़ित हैं तो रोटी का यह उपाय आपके लिए रामबाण साबित हो सकता है। रात के समय बनाई जाने वाली अंतिम रोटी पर सरसों का तेल लगाकर काले कुत्ते को खिला दें। अगर काला कुत्ता न हो तो कुत्ते के बच्चे को खिला सकते हैं। ऐसा करने से शनि तो शांत होंगे ही साथ ही सभी ग्रहों की अशुभता भी दूर होगी।
  • हिन्दू शास्त्रों में अतिथि को देवता का दर्जा दिया गया है। यदि आपके द्वार पर कोई भी आये तो उसे यथासंभव भोजन जरूर कराएं। भोजन में रोटी जरूर खिलाएं और खुद उसे परोसें।
  • अगर इन सभी प्रयासों से आपको सफलता नहीं मिलती है तो यह उपाय आपके लिए रामबाण साबित हो सकता है। रोटी और चीनी को मिलाकर, उसके छोटे-छोटे टुकड़े चीटियों को खाने के लिए उनके बिल के पास रख दें। ऐसा करने से आपकी सभी बाधाएं दूर होने लगेंगी।
  • अगर घर में हो रहे लड़ाई झगड़े से आप परेशान हैं तो दोपहर में जब रसोई में पहली रोटी सेंके तो उसे गाय के लिए और अंतिम रोटी कुत्ते के लिए निकाल दें। भोजन करने से पूर्व उसे गाय और कुत्ते को खिला दें। अगर संभव न हो तो बाद में भी खिला सकते हैं।
  • करियार और नौकरी में रुकावट आ रही है तो रोटी का यह उपाय अपके लिए वरदान साबित होगा। जिस बर्तन से रोटी बानाने के बाद रखी गई उसमें से नीचे से तीसरी नंबर वाली रोटी ले लें और तेल की कटोरी में अपनी बीच वाली अंगुली और उसके पास वाली अंगुली (तर्जनी) को एक साथ डुबोएं, उसके बाद उस रोटी पर दोनों अंगुलियों से एक साथ लाइन खींच दें। इस रोटी को बिना कुछ बोले दो रंग के कुत्ते को खिला दें। यह उपाय गुरुवार और रविवार को करेंगे तो सभी बाधाएं दूर हो जाएंगी।