करिश्मा कपूर द्वारा बहन करीना को दिए गए ये गर्भावस्था टिप्स, सभी महिलाओं के लिए क्यों हैं खास, जानिए

9


लाइव हिंदी खबर :-

हर किसी से सलाह मत लो

करिश्मा ने करीना को यह बेहद जरूरी कहानी बताई है। करिश्मा के अनुसार हर महिला की गर्भावस्था यात्रा अलग-अलग होती है। उस दौरान हर महिला अलग अनुभव करती है। इसलिए प्रत्येक महिला अपने अनुसार अलग-अलग सलाह दे सकती है।

करिश्मा आमतौर पर करीना को गर्भावस्था और शारीरिक मुद्दों पर सलाह नहीं देती हैं। करिश्मा इस बात पर अड़ी हैं कि इस संबंध में केवल डॉक्टरों से सलाह ली जानी चाहिए। करिश्मा का यह कहना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि विभिन्न महिलाओं की सलाह को सुनना और उस पर अभिनय करना एक अलग प्रभाव डाल सकता है।

पिछले अनुभव का उपयोग करें

Advertisements

करीना दूसरी बार गर्भवती हैं। इसलिए गर्भावस्था की यह यात्रा उनके लिए नई नहीं है और इसलिए करिश्मा ने करीना को सलाह दी है कि वे इस गर्भावस्था में पिछली गर्भावस्थाओं से जो सीखी हैं उसे लागू करें। पहली गर्भावस्था के दौरान हर महिला के दिमाग पर अत्याचार होता है।

लेकिन दूसरी प्रेग्नेंसी में करिश्मा ने करीना से कहा कि वो प्रेशर को अलग रखें और प्रेग्नेंसी को एन्जॉय करें। एक गर्भवती महिला जितनी अधिक खुश होगी, उतना ही वह स्वाभाविक रूप से लाभान्वित होगी और ऐसा ही उसके बच्चे को भी होगा। इसलिए जितना हो सके शांत और खुश रहने की कोशिश करें।

करिश्मा कपूर द्वारा करीना को दी गई सलाह का एक और महत्वपूर्ण हिस्सा उन्हें हिला देना है। कई महिलाएं डॉक्टर की सलाह पर सन शेक लेती हैं लेकिन कई को इसके सही फायदे नहीं पता होते हैं और यह जानना बहुत जरूरी है। पहला लाभ यह है कि गर्भवती महिलाओं और अजन्मे बच्चों को भरपूर मात्रा में विटामिन डी मिलता है।

इसके अलावा सन शेक लेने से बच्चे को ठीक से विकसित होने में मदद मिलती है और माँ की हड्डियाँ मजबूत होती हैं। हड्डियों का मजबूत होना बहुत जरूरी है क्योंकि अगर हड्डियां मजबूत होंगी तो डिलीवरी के दौरान हड्डियों को कोई नुकसान नहीं होगा।

योग का आधार

करिश्मा के अनुसार, योग गर्भावस्था के दौरान फिट रहने की कुंजी है। उनके अनुसार, यदि आप गर्भावस्था के दौरान मानसिक और शारीरिक रूप से स्वस्थ रहना चाहती हैं, तो योग कोई विकल्प नहीं है। गर्भावस्था के दौरान योगाभ्यास करने वाली महिला स्वस्थ होती है।

मालासन या उत्कट कोणासन जैसे योग आसन गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से किए जाने चाहिए। चूंकि करिश्मा भी योग कर रही हैं, उन्हें इसका महत्व पता है। ये आसन कूल्हों को मजबूत बनाते हैं और प्रसव को आसान बनाते हैं। यही कारण है कि इन सीटों को एक गर्भवती महिला द्वारा एक बीट को याद किए बिना किया जाना चाहिए।

सही भोजन

करिश्मा लगातार करीना को याद दिलाती हैं कि गर्भावस्था में आहार एक महत्वपूर्ण कारक है और इसे उपेक्षित नहीं किया जाना चाहिए। ऐसा इसलिए है क्योंकि एक स्वस्थ आहार एक गर्भवती महिला को ताकत देता है, लेकिन वह जो भी खाती है वह अपने दूध के माध्यम से अपने बच्चे तक पहुंचती है।

जन्म के छह महीने बाद बच्चा विशेष रूप से स्तनपान करता है। तो इन छह महीनों के दौरान माँ जो भी खाती है, अप्रत्यक्ष रूप से बच्चे को भी मिलता है। एक अच्छा आहार एक सामान्य प्रसव की संभावना को भी बढ़ाता है। तो यहां कुछ विशेष युक्तियां दी गई हैं जो एक समस्या वाली गर्भवती महिला सुरक्षित और उपयोग कर सकती हैं।

विज्ञापन