Breaking News

TOPNEWS : लॉजिस्टिक्स टेक प्लेटफॉर्म इस साल डिलीवरी व लागत पर करेंगे फोकस

नई दिल्ली, 14 जनवरी (आईएएनएस)। कोविड-19 महामारी ने उद्योगों में अभूतपूर्व बदलाव लाए हैं और इसने एक व्यवसाय के संचालन के तरीके को बदल दिया है।

उद्योगों में से एक जो सबसे अधिक प्रभावित हुआ है, वह है लॉजिस्टिक्स और सप्लाई चेन उद्योग। फिलहाल ऑनलाइन ऑर्डर और डिलीवरी में वृद्धि दर्ज की गई है, क्योंकि महामारी के समय अधिकतर ग्राहक घर पर ही रहना पसंद कर रहे हैं।

इसका प्रभाव 2021 तक फैलने की संभावना है और सप्लाई चेन (आपूर्ति श्रृंखला) और लॉजिस्टिक्स (रसद) कंपनियों को नए साल में व्यापार गतिविधि में वृद्धि देखने को मिलेगी, क्योंकि ऑनलाइन डिलीवरी नई ऊंचाइयों पर देखी जा रही है।

वर्चुअल या ऑनलाइन खरीदारी द्वारा संचालित दुनिया में व्यवसाय भी तेजी से इस वास्तविकता को पहचान रहे हैं कि ब्रांड और ग्राहक के बीच सबसे महत्वपूर्ण फिजिकल टचप्वाइंट है।

रूटिंग, स्केल डिलीवरी, बूस्ट ड्राइवर प्रोडक्टिविटी, डिलीवरी टर्नअराउंड-टाइम को कम करने और अनुकूल डिलीवरी कोस्ट 2021 में मजबूत लॉजिस्टिक्स ऑपरेशंस के निर्माण के लिए स्मार्ट तरीका होगा।

Advertisements

जैसे-जैसे ऑनलाइन डिलीवरी बढ़ी, कई लॉजिस्टिक कंपनियों ने वर्ष के दौरान गतिविधियों में वृद्धि देखी। इसमें फारआई, लोक्स और लोजिनेक्सट शामिल हैं।

अंतिम मील वितरण (लास्ट माइल डिलीवरी) के लिए कॉर्पोरेट स्पेक्ट्रम भर में कई कंपनियों द्वारा उनकी सेवाओं का लाभ उठाया गया। मिसाल के तौर पर फ्यूचर समूह का हिस्सा होमटाउन, जो भारत के प्रमुख फर्नीचर और लाइफस्टाइल रिटेलर्स में से एक है, उसने लास्ट माइल डिलीवरी के लिए फारआई के साथ साझेदारी की। इसने रियल टाइम विजिबिलिटी के साथ ही ग्राहकों के अनुभव को बढ़ाने का काम किया है।

फारआई के लॉजिस्टिक्स सपोर्ट का उपयोग करते हुए होमटाउन ने डिलीवरी टर्नअराउंड समय में 50 प्रतिशत तक सुधार किया और ऑर्डर और डिलीवरी के बारे में सक्रिय संचार के कारण ग्राहक कॉल में 60 प्रतिशत की कमी हासिल की।

सबसे बड़ी बात यह है कि ब्रांड के होम ऑफिस अनुभाग में मांग में तिगुना वृद्धि देखी गई।

अब 2021 में कुछ निश्चित रुझान देखने को मिलेंगे, क्योंकि लॉजिस्टिक और आपूर्ति श्रृंखला कंपनियां बेहतर सेवाएं प्रदान करने के लिए नवाचार (इनोवेटिव) का सहारा ले रही हैं। इनमें से कुछ में शामिल हैं :

संपर्क रहित डिलीवरी : ग्राहकों को मानव संपर्क से बचाने के लिए लॉजिस्टिक कंपनियां संपूर्ण वर्टिकल में संपर्क रहित डिलीवरी सेवा प्रदान करती रही हैं।

कई प्रमुख प्रौद्योगिकी संचालित लॉजिस्टिक्स कंपनियां अपने अंतिम मील वितरण में शून्य या कम से कम संपर्क में आए ही डिलीवरी प्रदान कर रही हैं।

यह ग्राहकों के लिए बेहतर समाधान प्रदान करने के लिए इंटेलिजेंट रुटिंग, संपर्क रहित वितरण, लॉजिस्टिक और लागत अनुकूलन को अपना रही हैं। डिलीवरी और मॉनिटरिंग के बेहतर संचालन के लिए कंपनियां इंटरनेट ऑफ थिंग्स, ब्लॉकचेन और आरएफआईडी जैसी नई तकनीकों का भी इस्तेमाल कर रही हैं।

न्यू फुलफिलमेंट मॉडल : आपूर्ति श्रृंखला और लॉजिस्टिक्स कंपनियों ने महामारी के दौरान नए फुलफिलमेंट यानी पूर्ति मॉडल भी अपनाए हैं, जो डिलीवरी और लागत को अनुकूलित करेंगे, जिसमें वे नई प्रक्रियाओं और प्रौद्योगिकी के माध्यम से वितरण में नई क्षमता ला रहे हैं।

कंपनियां ऐसी प्रक्रियाओं का उपयोग कर रही हैं, जो सुनिश्चित करती हैं कि ऑर्डर समय पर और सटीक तरीके से पूरे हों और अधिक से अधिक ग्राहकों को संतुष्टि प्राप्त हो। ऐसी नई प्रथाओं की बात करें तो इसमें सबसे अधिक अनुकूलित लागत पर ग्राहकों को सामान की शीघ्र, समय पर और सुनिश्चित डिलीवरी शामिल है।

–आईएएनएस

एकेके/एसजीके

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *