शिवसेना ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा ‘देश कभी इतना अराजक नहीं रहा’

0
4

लाइव हिंदी ख़बर:-24 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी ने केवल चार घंटे के नोटिस पर 21 दिनों के सख्त लॉकडाउन की घोषणा की। उस दिन से देश में अराजकता थी। यह भ्रम और अनिश्चितता आज भी बनी हुई है। देश में इतनी अराजकता कभी नहीं रही, ‘शिवसेना ने केंद्र सरकार की तीखी आलोचना की है।

शिवसेना ने सामना के पहले पन्ने में राज्याभिषेक और उसके बाद तालाबंदी के बाद देश के हालात पर टिप्पणी की है। शिवसेना ने केंद्र सरकार पर देश में मौजूदा अराजकता के लिए जिम्मेदार होने का आरोप लगाया है। देश पर आर्थिक संकट मंडरा रहा है। सभी राज्यों की अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो गई है।मूल्यवर्ग जैसे खतरनाक प्रयोग इस आर्थिक अराजकता के लिए जिम्मेदार हैं। 13 मार्च को स्वास्थ्य मंत्री का कहना है कि देश में कोई स्वास्थ्य आपातकाल नहीं है। 22 मार्च को प्रधानमंत्री ने सार्वजनिक कर्फ्यू की घोषणा की और 24 मार्च को 21 दिन का सख्त तालाबंदी की। भ्रम के उस गड्ढे में देश समूहों में दूर खा रहा है। ऐसा कैसे होगा?, शिवसेना ने ऐसी चिंता व्यक्त की है।जब देश पर आर्थिक संकट आ गया है तो केंद्र ने हाथ हिला दिया है। केंद्र को ऐसी स्थिति में राज्यों की मदद करनी चाहिए। मनमोहन सिंह सरकार के दौरान केंद्र सरकार ने गुजरात को ऐसी मदद दी। यह केंद्र सरकार का कर्तव्य है। केंद्र की दुकान राज्यों द्वारा दिए गए राजस्व पर चलाई जाती है।प्रधानमंत्री, राष्ट्रपति, मंत्री, नौकरशाही, संसद, निजी सुरक्षा, रक्षा, विदेशी मामलों पर भारी व्यय कर महाराष्ट्र, तमिलनाडु, कर्नाटक, पंजाब, गुजरात, पं. बंगाल और आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों ने अपनी आय के स्रोतों को बढ़ाकर केंद्र को मजबूत किया है। लगभग 22% पैसा अकेले मुंबई से केंद्रीय खजाने में जाता है। लेकिन केंद्र सरकार महाराष्ट्र और अन्य राज्यों की मदद करने के लिए तैयार नहीं है, शिवसेना ने आरोप लगाया है।तालाबंदी के दौरान सरकार ने 20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज की घोषणा की, लेकिन यह पैसा कब और किसके पास पहुंचा यह एक रहस्य है। कई राज्यों ने केंद्र से पैसे की मांग की है। कर्मचारियों के वेतन का भुगतान करने के लिए कोई पैसा नहीं है।अगर तपस्या के उपाय किए जाते हैं, तो भी बड़े राज्यों के लिए आगे बढ़ना मुश्किल है। नए ऋण उपलब्ध नहीं होंगे क्योंकि राज्य पहले से ही कर्ज में हैं। इसलिए केंद्र को राज्यों की जरूरतों को पूरा करने के लिए विश्व बैंक से बड़ा ऋण लेना चाहिए, ‘शिवसेना ने केंद्र को सलाह दी है।
विज्ञापन