यहां अस्पतालों को ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए करना पड़ता है अतिरिक्त भुगतान, डॉक्टरों ने कलेक्टर से की शिकायत

लाइव हिंदी ख़बर:-कोरोना संक्रमण की घटनाओं में वृद्धि के साथ ऑक्सीजन की मांग में भी काफी वृद्धि हुई है। हालांकि अस्पतालों में ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति करते समय व्यापारियों से अतिरिक्त शुल्क लिया जाता है।

इसलिए इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की शहर शाखा ने सीधे जिला कलेक्टर राहुल द्विवेदी के पास शिकायत दर्ज कराई है। एसोसिएशन ने मांग की है कि मौजूदा कोरोना महामारी के दौरान अस्पतालों में ऑक्सीजन की आपूर्ति करते समय लूट करने वाले व्यापारियों पर आरोप लगाए जाएं।

नागर जिले में कोविद की घटना बढ़ रही है। इस दौरान ऑक्सीजन की कमी न हो इसके लिए प्रशासनिक स्तर पर कई उपाय किए जा रहे हैं। हालांकि इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने आरोप लगाया है कि ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाले व्यापारी अतिरिक्त दरों को चार्ज करके निजी अस्पतालों को लूट रहे हैं। संगठन ने एक ही बयान जिला कलेक्टर को दिया है।

सरकारी आदेश के अनुसार ऑक्सीजन की कीमत लगभग 25 रुपये प्रति घन मीटर तय की गई है। इस हिसाब से ऑक्सीजन के जंबो सिलेंडर की अधिकतम कीमत 180 रुपये जीएसटी है। वास्तव में, कोविद और गैर-कोविद अस्पतालों में प्रत्येक जंबो सिलेंडर के लिए 700 से 1000 रुपये का शुल्क लिया जाता है।इस कीमत पर भी जंबो सिलेंडर पूरी तरह से भरे हुए नहीं हैं। हालांकि संगठन ने मांग की है कि इस तरह की महामारियों के दौरान लूटने वाले व्यापारियों के खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाए। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने यह भी स्पष्ट किया है कि महामारी के दौरान इस तरह के लूट व्यापारियों द्वारा चिकित्सा क्षेत्र को बदनाम किया जा रहा है।

उन्होंने जिला कलेक्टर को भी इसी तरह का बयान दिया है और उनके साथ चर्चा की है। इस समय, एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. अनिल अठारे, सचिव डाॅ. सचिन वाधने भी उपस्थित थे।