विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख ने कोरोना काल में लोगों की मदद करने वाले इस भारतीय ऐप की जमकर की प्रशंसा

0
1

लाइव हिंदी खबर:-वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन के प्रमुख टेड्रोस अदनोम ने भारत के स्वास्थ्य पुल ऐप की प्रशंसा की, जो कोरोनरी हृदय रोग को रोकने के लिए बनाया गया था। अरोग्या सेतु ऐप ने भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के लिए हॉटस्पॉट की पहचान करने में मदद की। इसलिए परीक्षण बढ़ाने से कोरोना को उस बिंदु पर नियंत्रण में लाने में मदद मिली।

उन्होंने उल्लेख किया कि भारत में लगभग 150 मिलियन लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड किया है। हेल्थ ब्रिज ऐप ने स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए कोरोना संक्रमण के लिए हॉटस्पॉट ढूंढना आसान बना दिया। उन्होंने यह भी कहा कि ऐप ने उन्हें यह समझने में मदद की है कि किन क्षेत्रों का परीक्षण करने की आवश्यकता है।

सार्वजनिक स्थानों पर आवश्यक ऐप्स

लगभग सभी सार्वजनिक स्थानों पर पहुंचने के लिए ऐप का उपयोग करना अनिवार्य है। ट्रेन, प्लेन, बस से यात्रा करते समय हेल्थ ब्रिज ऐप होना चाहिए। इसलिए अधिकांश सरकारी, निजी कार्यालय में एक्सेस करने के लिए ऐप होना चाहिए।

ऐप 3 अप्रैल को लॉन्च होगा

भारत सरकार ने 3 अप्रैल, 2020 को इस ऐप को लॉन्च किया। एप्लिकेशन मोबाइल ब्लूटूथ और जीपीएस तकनीक के माध्यम से आसपास के कोरोना संक्रमित लोगों के बारे में जानकारी प्रदान करता है। ऐप इस बात की भी जानकारी देता है कि ऐप इस्तेमाल करने वाला व्यक्ति कोरोना से कितना सुरक्षित है।

इस बीच भारत में करदाताओं की संख्या 71 लाख को पार कर गई है। इसलिए एक लाख नागरिकों की मौत हो गई है। इसलिए 62 लाख से अधिक लोगों ने करोना को मात दी है। संयुक्त राज्य अमेरिका सबसे अधिक प्रभावित देश है, जिसमें 8 मिलियन लोग बीमारी से प्रभावित हैं। इनमें से दो लाख 20 हजार की मौत हो चुकी है।

दूसरी ओर संयुक्त राज्य अमेरिका ने बार-बार चीन पर दुनिया का सबसे आम कोरोनोवायरस संक्रमण बनाने का आरोप लगाया है। कोरोना ने दुनिया भर में सार्वजनिक जीवन को बाधित किया, जिससे चीन के खिलाफ नाराजगी फैल गई।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने विशेषज्ञों की एक समिति की जाँच के लिए नियुक्त किया है कि चीन में कोरोना का उत्पादन किया गया था या नहीं। हालांकि नामों को मंजूरी के लिए चीन भेजा गया है। इसने विश्व स्वास्थ्य संगठन को एक बार फिर विवाद के घेरे में ला दिया है।

विज्ञापन