कोरोना वैक्सीन को लेकर सामने आई बड़ी अच्छी खबर, इस देश ने दूसरे टीके को दी मंजूरी

लाइव हिंदी ख़बर:-कोरोनावायरस के प्रसार को रोकने के लिए दुनिया भर में विभिन्न स्तरों पर प्रयास चल रहे हैं। रूस ने अच्छी खबर दी है क्योंकि वह कई देशों में टीके विकसित करना चाहता है। रूस ने EpiVacCorona वैक्सीन को मंजूरी दी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने यह घोषणा की। यह रूस द्वारा विकसित दूसरा है।

बता दें कि रूस ने स्पुतनिक वी कोरोन को अगस्त में मंजूरी दी थी। इसके बाद EpiVacCorona वैक्सीन है। वैक्सीन को साइबेरिया में वेक्टर संस्थान द्वारा विकसित किया गया था। इस टीका परीक्षण के परिणामों का दो सप्ताह पहले अध्ययन किया गया था। टीका तब अनुमोदित किया गया था।

पुतिन ने कहा कि नोवोसिबिर्स्क वेक्टर सेंटर फॉर वायरोलॉजी और बायोटेक्नोलॉजी ने कोरोनावायरस के खिलाफ एक दूसरा टीका पंजीकृत किया था। टीका शुरुआत में 100 लोगों को दिया गया था। उन्होंने यह भी कहा कि परिणाम सकारात्मक थे।

मास्को टाइम्स के अनुसार रूस की उप प्रधानमंत्री तातियाना गोलिकोवा और उपभोक्ता संरक्षण निगरानी एजेंसी के प्रमुख अन्ना पोपोवा का भी टीकाकरण किया गया है। इस टीके का परीक्षण दो महीने से चल रहा है।

हालांकि इन परीक्षणों के परिणाम अभी तक अनुसंधान वैज्ञानिकों द्वारा प्रकाशित नहीं किए गए हैं। इस एपिवाकोरोना वैक्सीन के परीक्षण के अगले चरण के लिए देश भर के 40000 स्वयंसेवकों का चयन किया जाएगा।

दिसंबर में तीसरा टीका?

गोलिकोवा ने कहा कि सरकार दिसंबर में भी कोरोना पर तीसरी लेशिंग की अनुमति देगी। यह तुरंत एपिवाकोरोना की 60000 खुराक तैयार करने की योजना है। रूस ने स्पुतनिक वी कोरोन को अगस्त में मंजूरी दी थी। संयुक्त राज्य अमेरिका सहित पश्चिमी देशों द्वारा इसकी आलोचना की गई थी।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने यह भी कहा कि वैक्सीन को उसके दिशानिर्देशों के अनुसार विकसित नहीं किया गया था। अंत में रूस पीछे हट गया और बड़े पैमाने पर स्पुतनिक वी वैक्सीन का परीक्षण करने की पेशकश की।

टीका अब 40000 लोगों को दिया जाएगा और परिणाम विश्व स्वास्थ्य संगठन को भेजे जाएंगे। रूस ने स्पुतनिक वी वैक्सीन को आम जनता के लिए उपलब्ध कराया है। हालांकि अपर्याप्त आपूर्ति के कारण इस टीके के बारे में बहुत चर्चा हुई।