रिलायंस-अमेजन विवाद पर निवेशकों में पड़ा असर, शेयर बाजार के सूचकांक में भारी गिरावट

0
1

लाइव हिंदी खबर:- रिलायंस इंडस्ट्रीज की रिटेल कंपनी और फ्यूचर रिटेल के बीच लेन-देन में देरी के साथ-साथ फ्यूचर और अमेज़न मामलों में अमेज़न के मध्यस्थता निर्णय के परिणामस्वरूप दोनों शेयर बाजार सूचकांक सोमवार को गिर गए।

वहीं अमेरिकी डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपए में 23 पैसे की गिरावट रही। विशेषज्ञों ने कहा है कि बाजार आज भी दबाव में रहने की संभावना है।

बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) सूचकांक दिन के दौरान 737 अंक गिर गया, लेकिन 540 अंक बढ़कर 40,145.50 पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज इंडेक्स (NSE) 162.60 अंकों की गिरावट के साथ 11,767.75 पर बंद हुआ।

सेंसेक्स की कंपनियों में बजाज ऑटो सबसे ज्यादा हिट रही। इसके बाद Mahindra & Mahindra, Reliance Industries, Tata Steel, Tech Mahindra, State Bank, ICICI Bank और Axis Bank का स्थान था।

सेंसेक्स के सबसे बड़े वेटलिफ्टर रिलायंस इंडस्ट्रीज अमेजन-फ्यूचर्स के इश्यू पर 3.97 फीसदी गिर गया। दिन के दौरान नेस्ले इंडिया, कोटक बैंक, इंडसइंड बैंक, पावरग्रिड और एचयूएल के शेयरों में 2.48 प्रतिशत की तेजी आई।

वैश्विक स्तर पर पूंजी बाजार उदास थे। कई यूरोपीय देशों में कोविद -19 के प्रकोप की दूसरी लहर ने व्यापार को प्रभावित किया है। इसी समय, संयुक्त राज्य अमेरिका में चुनाव के माहौल ने अमेरिकी सरकार द्वारा दिए जाने वाले वित्तीय पैकेज के बारे में अनिश्चितता पैदा कर दी है।

दोनों का वैश्विक पूंजी बाजारों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ा। शंघाई, टोक्यो और सियोल में पूंजी बाजार नकारात्मक हो गए। यूरोपीय पूंजी बाजारों ने भी ज्यादा हलचल नहीं देखी।

क्षेत्रीय सूचकांकों से निराशा
हालांकि बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज के क्षेत्रीय सूचकांकों ने निवेशकों को दिन भर निराश किया। बीएसई एनर्जी, मेटल्स, ऑटो, रियल्टी, ऑयल एंड गैस, बैंक्स और फाइनेंस रीजनल इंडेक्स 3.51 फीसदी तक गिरे हैं। बीएसई के मिडकैप और स्मॉलकैप इंडेक्स में भी 1.77 फीसदी की गिरावट आई है। सेक्टोरल इंडेक्स में केवल एफएमसीजी इंडेक्स 0.11 फीसदी बढ़ा है।

विज्ञापन