राष्ट्रपति पद जाते ही गिरफ्तार हो सकते हैं ट्रम्प, सामने आए यह दो बड़े मामले?

0
1

लाइव हिंदी खबर:- अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव हारने के बाद चर्चा है कि अब राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के दिन खत्म हो जाएंगे। राष्ट्रपति पद छोड़ने के बाद ट्रंप के जेल जाने की भी उम्मीद है। इतना ही नहीं राष्ट्रपति पद से हटते ही उन्हें गिरफ्तार भी किया जा सकता है।

उनकी अध्यक्षता के दौरान डोनाल्ड ट्रम्प पर कई आरोप लगाए गए थे। उन पर भ्रष्टाचार, मनी लॉन्ड्रिंग, टैक्स चोरी आदि के आरोप हैं। हालांकि राष्ट्रपति पद ने उन्हें गिरफ्तारी से बचा लिया।

यही फायदा ट्रम्प को हुआ। राष्ट्रपति पद छोड़ने के बाद अब ट्रम्प के खिलाफ आपराधिक आरोप दायर किए जाने की संभावना है। इसके अलावा उनके वित्तीय व्यवहार की भी जांच की जा रही है।

पेस यूनिवर्सिटी प्रा. बेनेट गेर्शमैन ने बीबीसी को बताया कि जो बिडेन के राष्ट्रपति पद संभालने के बाद डोनाल्ड ट्रम्प के खिलाफ आपराधिक आरोप लगाए जा सकते हैं।

ट्रम्प पर कर चोरी, मनी लॉन्ड्रिंग और चुनाव धोखाधड़ी का आरोप लगाया गया है। कुछ मामले मीडिया ने भी उठाए हैं। हालांकि इन आरोपों की जांच नहीं की गई थी।

न्यूयॉर्क टाइम्स के अनुसार ट्रम्प को टीटी 300 मिलियन से अधिक का बकाया है। वे अगले चार साल में कर्ज चुकाना चाहते हैं। कोरोना संक्रमण के कारण उनका निजी निवेश भी अच्छी स्थिति में नहीं है। इसलिए जैसे ही ट्रम्प राष्ट्रपति पद छोड़ देंगे, कुछ कर्जदाता अदालत में भाग सकते हैं।

डोनाल्ड ट्रम्प के लिए राष्ट्रपति पद वित्तीय और कानूनी कार्रवाई के खिलाफ एक ढाल था। ट्रम्प के विरोधियों का कहना है कि उनके बुरे दिन अब शुरू होने की संभावना है कि उन्होंने राष्ट्रपति पद छोड़ दिया है।

ट्रंप ने पहले उन पर उनके खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगाया है। ट्रंप ने अपने ऊपर लगे आरोपों से लगातार इनकार किया है।

ट्रम्प को ट्रम्प प्रशासन के खिलाफ आरोपों और इस साल की शुरुआत में महाभियोग की कार्यवाही से बरी कर दिया गया था। हालाँकि उस समय हुई जाँच और कार्यवाही अभियोग के दौरान राष्ट्रपति को दी गई सुरक्षा पर आधारित थी।

पिछले साल दिसंबर में प्रतिनिधि सभा में ट्रम्प के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव दायर किया गया था, जिसमें अधिकांश डेमोक्रेट हैं।

इसलिए फरवरी 2020 में वह रिपब्लिकन-बहुमत सीनेट द्वारा बरी कर दिया गया था। न्याय विभाग ने पहले कहा था कि जब तक वह पद पर थे राष्ट्रपति के खिलाफ एक आपराधिक मामला दायर नहीं किया जा सकता है।