Breaking News

अंतिम संस्कार के लिए कनाडा से घर आया बेटा, हॉस्पिटल ने बदली बॉडी, जानिए फिर क्या हुआ

लाइव हिंदी खबर:- कोरोना संकट के दौरान गुजरात का एक अस्पताल घोर लापरवाही और गैर-जिम्मेदारता की चपेट में आ गया। अहमदाबाद नगर अस्पताल की मोर्चरी से एक वृद्ध व्यक्ति का शव उसके परिवार को सौंप दिया गया।

परिवार ने तब अंतिम संस्कार भी किया। मृतक की पहचान 65 वर्षीय लेखाबेन चंद के रूप में की गई और उसके परिवार के सदस्य अस्पताल के मुर्दाघर में उसका शव नहीं खोज सके। यह परिवार के लिए एक झटके के रूप में आया।

चंद के शव को तब तक मुर्दाघर में रखा गया जब तक उनका बेटा कनाडा से नहीं आ गया। अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि इस मामले का निपटारा कर दिया गया है और पुलिस मामले की जांच कर रही है।

11 नवंबर की सुबह परिवार के सदस्यों ने वीएस शव को अस्पताल के मुर्दाघर में रखा गया था। क्योंकि सभी परिवार अपने बेटे के आने का इंतजार कर रहे थे जो अंतिम संस्कार के लिए अनिवासी भारतीय है।

रविवार को जब चांद का परिवार मुर्दाघर पहुंचा, तो उन्हें चांद का शव गायब मिला। चंद के परिवार ने कहा कि उनके शव को परिवार की हिरासत में ले लिया गया और उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।

कुछ परिवारों ने अस्पताल प्रशासन पर गैरजिम्मेदारी का आरोप लगाया है। अस्पताल में सीसीटीवी कैमरे नहीं हैं। उन्होंने लाशों का ब्योरा भी नहीं रखा। चांद के परिवार के अनुसार यही कारण था कि शरीर का आदान-प्रदान किया गया था।

10-11 नवंबर की रात दिल का दौरा पड़ने से वृद्ध की मौत हो गई। 11 नवंबर को परिवार के सदस्यों ने उसके शव को मुर्दाघर में रखने का फैसला किया। निर्णय इसलिए लिया गया ताकि कनाडा से आकर उनका बेटा उन्हें दफनाया सके।

बूढ़े आदमी के बेटे अमित चंद ने अपनी माँ का अंतिम चेहरा देखने के लिए लगभग 36 घंटे की यात्रा की। लेकिन अस्पताल पहुंचने पर उन्हें एक आदमी का शव दिया गया। अमित चंद ने कहा कि हमने अस्पताल के अधिकारियों को जो भी दस्तावेज दिए, उनमें से कोई भी शव उनके पास उपलब्ध नहीं था। हमें कोई रसीद नहीं दी गई है, चंद ने कहा।

शवों का आदान-प्रदान किया गया है और जिन लोगों को चंद का शरीर दिया गया था उनका पता लगाया गया है। एस अस्पताल के निवासी चिकित्सा अधिकारी कौशिक बेगडा ने कहा। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *