दिल्ली में जीवित पक्षियों के आयात पर प्रतिबंध

40


नई दिल्ली, 9 जनवरी (आईएएनएस)। राष्ट्रीय राजधानी में बर्ड फ्लू के डर से दिल्ली सरकार ने शनिवार को दिल्ली में जीवित पक्षियों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया।

दिल्ली सरकार ने नागरिकों को आश्वासन दिया है कि बीमारी से निपटने के लिए सभी जरूरी उपाय किए जा रहे हैं।

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक डिजिटल प्रेस कॉन्फ्रेंस के माध्यम से घोषणा की और यह स्पष्ट किया कि दिल्ली में अभी तक एक भी बर्ड फ्लू का मामला सामने नहीं आया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि एहतियात के तौर पर सरकार ने तत्काल प्रभाव से शहर में जीवित पक्षियों के आयात पर पूर्ण प्रतिबंध लागू करने का फैसला किया है। केजरीवाल ने गाजीपुर चिकन मंडी (कुक्कुट बाजार) को अगले 10 दिनों के लिए बंद करने की भी घोषणा की।

उन्होंने कहा, दिल्ली सरकार राष्ट्रीय राजधानी में बर्ड फ्लू के प्रसार को रोकने के लिए सभी आवश्यक उपाय कर रही है। चिंता की कोई बात नहीं है। हम बीमारी पर नजर रख रहे हैं।

पिछले तीन दिनों में दक्षिणी दिल्ली के जसोला इलाके के एक पार्क में 24 कौवे मृत पाए जाने की खबरों के बीच यह घोषणा की गई है। इसके अलावा पूर्वी दिल्ली के मयूर विहार क्षेत्र में प्रसिद्ध संजय झील में कुल 10 बतखें भी मृत पाई गईं। बत्तखों के नमूनों को संबंधित लैब में भेजा गया है, ताकि यह पता लगाया जा सके कि क्या उनकी मौत बर्ड फ्लू से हुई है।

दिल्ली विकास प्राधिकरण, जो शहर में बड़ी संख्या में पार्क की जिम्मेदारी संभालता है, वह स्थिति की निगरानी कर रहा है।

पिछले कुछ दिनों में दिल्ली में कम से कम 35 कौवे मृत पाए जा चुके हैं। उनके नमूने भी परीक्षण के लिए भेजे गए हैं।

उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शुक्रवार को अधिकारियों को प्रमुख पक्षी स्थलों, खासकर पोल्ट्री बाजारों, जल निकायों, चिड़ियाघरों और अन्य संभावित जगहों पर पक्षियों की कड़ी निगरानी रखने के निर्देश दिए थे।

–आईएएनएस

एकेके/एसजीके

विज्ञापन