खुद को मानसिक रूप से थका हुआ महसूस कर रहे हो तो इन 4 बातों का रखें विशेष ध्यान

24


यहां तक ​​कि समाज में हर क्रिया को तौलना और नापना पड़ता है। उन सभी प्रतिबंधों के कारण थकान महसूस होना स्वाभाविक है। वास्तव में यह महान अवसाद का समय था। हालांकि, यह कहना गलत नहीं होगा कि आशावाद और एकता के दो कारकों ने इन वायरस से लड़ना आसान बना दिया है।
भावनाओं को समझें

उन लोगों की भावनाओं को समझने की कोशिश करें, जो सैन फ्रांसिस्को के कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में प्रोफेसर एलिसा अपेल कहते हैं। उनके मन की बात जान लें। यह अधिक प्रचलित होगा, खासकर त्योहारी सीजन के दौरान। तनाव, थकान, चिंता या अवसाद के बढ़े हुए स्तर की संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता है।

सकारात्मक रहने के लिए क्या करें?

हालांकि अवसाद एक ऐसी प्रक्रिया है जो अवसाद की ओर ले जाती है, अवसाद एक मानसिक विकार नहीं है, बल्कि भावनात्मक रूप से व्यक्त की गई भावना है, एप्पल कहती है। आइए जानें कोरोना की इस स्थिति में सकारात्मक रहने के लिए क्या करना चाहिए

Advertisements

अपने आप को कम मत समझना

नकारात्मक चीजों से दूर रहें। अपने आप से अच्छा व्यवहार करें और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि ऐसे लोगों के साथ रहें जहाँ आपको कम नहीं आंका जाता है, आपकी भावनाओं का सम्मान किया जाता है। इस बारे में सोचें कि खुद की देखभाल करने का क्या मतलब है। क्योंकि यह सभी के लिए अलग-अलग हो सकता है।

उदाहरण के लिए, स्वयं की देखभाल करने का मतलब पर्याप्त नींद लेना हो सकता है। तो यह किसी के लिए व्यायाम हो सकता है। बैठने और बहुत लंबे समय तक काम करने से बचें। ताकि तनाव को कम करने में मदद मिले। इससे उत्साह भी महसूस होता है। आप अपने पार्टनर के साथ (मास्क पहनकर) टूर कर सकते हैं।

सावधानी आवश्यक

एक नई शैली अपनाएं

संयुक्त राज्य अमेरिका में हावर्ड विश्वविद्यालय में स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के अनुसार जलवायु परिवर्तन से भविष्य में महामारी का खतरा बढ़ रहा है। कोरोना ने हमारी जीवन शैली को पूरी तरह से बदल दिया है। यह एक तथ्य है कि ऐसी चुनौतीपूर्ण घटना पहले कभी नहीं हुई।

लेकिन अधिक सकारात्मक परिवर्तन होने की संभावना है, ऐप्पल कहते हैं। मान लीजिए कि गिलास आधा खाली होने के बजाय आधा भरा हुआ है। हालांकि यह सच है कि इस अवधि के दौरान अपूरणीय क्षति हुई है, आइए हम यह मानें कि यह भविष्य की घटनाओं के लिए एक प्रस्तावना थी।

संकलन- वेदांगी कन्नव, मुंबई विश्वविद्यालय

विज्ञापन